मध्य भारत एग्रो फैक्ट्री में दिन भर चली जांच

0
50

आज आसपास के क्षेत्रों का दूषित पानी का लिया जाएगा सेम्पल

जांच में होती है गडबड़ी तो नहीं बख्शेंगे किसी को : पर्यावरण मंत्री

santosh pathak
सागर। मध्य भारत एग्रो फैक्ट्री के मामले में पर्यावरण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के आदेश के बाद पर्यावरण विभाग हरकत में आया और पर्यावरण विभाग की टीम मानीटरिंग करने के लिए पहुंची। जिसमें फैक्टरी के अंदर का पानी और आसपास के वायु की मानीटरिंग की गई। वहीं पर्यावरण मंत्री के आदेशानुसार आज आसपास के क्षेत्रों के जलस्त्रोतों की सेम्पिलिंग ली जाएगी और फ ैक्ट्री को बंद करने के आदेश दिए जा रहे हैं। यहां बता दें कि आसपास के क्षेत्रों में केमिकल्सयुक्त पानी निकल रहा है जो फेक्ट्री के संग्रहित पानी के कारण रिसाव हो रहा है जिससे कई जानवर मृत हो गए हैं और लोगों को बीमारियां फैल रही हैं। पर्यावरण मंत्री के आदेश के बाद क्षेत्रीय मंत्री ने भी इस मामले को संज्ञान में लेकर कार्यवाही के आदेश दिए।

वहीं पर्यावरण मंत्री ने कहा कि अगर जांच में हीलाहवाली होती है तो किसी को बख्शा नहीं जाएगा। फैक्ट्री के कारण आसपास के क्षेत्रों का दूषित हो गया। पानी का संकट पड़ चुका है। फैक्ट्री प्रबंधन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा था। जनता के हितों में लगातार फैक्टरी की खामियां उजागर की गई और मंत्रियों के संज्ञान में यह बता लाई गई। मध्यप्रदेश शासन के पर्यावरण मंत्री ने अपने विभाग की टीम पहुंचायी और जांचों का सिलसिला शुरू हो गया।

इनका कहना-
इस संबंध में जब चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि जांच करने के लिए टीम पहुंच गई है और फैक्ट्री को क्लोज करने के आदेश दिए गए हैं।
सज्जनसिंह वर्मा, पर्यावरण मंत्री

इनका कहना-
जब इस संबंध में पर्यावरण प्रदूषण में चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि विभाग की टीम मध्य भारत फैक्ट्री के आसपास के क्षेत्रों में मानीटरिंग करने के लिए पहुंच गई है। मोनपुर और आसपास के क्षेत्रों का सेम्पिल ले लिया गया है और सोमवार को भी टीम सेम्पिल लेने पहुंचेंगी।
बी.एस. राय,
पर्यावरण प्रदूषण क्षेत्रीय अधिकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here