Corona: भारी पड़ी किलकारी, मां ने कोरोना को हराया

0
1

पटना। देश में कोरोना से दम तोड़ते लोगों के बीच अच्छी खबर है। यहां एक साढ़े तीन साल की मासूम की किलकारी ने कोरोना को परास्त कर दिया। कोरोना जब भी प्रभाव दिखाने की कोशिश करता है मां की एक झप्पी बेटी को वायरस से लड़ने की ताकत दे देती है। संक्रमण मां से ही आया, लेकिन जब वह निगेटिव हो गईं तब बेटी पॉजिटिव हुई है। वायरस की गिरफ्त में आने के बाद भी बेटी ने न तो एक भी दिन मां का दूध पीना छोड़ा और ना ही कोई अन्य तकलीफ हुई।

दरअसल, संज्ञा के पिता गया प्रसाद पटना एम्स के बाल रोग विभाग में लिपिक हैं। पटना एम्स के कई विभागों के डॉक्टर और कर्मचारी संक्रमित हुए। संज्ञा की मां प्रिया कोरोना पॉजिटिव हो गईं। 17 अप्रैल को प्रिया की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी, इसके बाद से ही वह घर में आइसोलेट हो गईं। वह संज्ञा की देखभाल के साथ घर का पूरा काम करती थीं, क्योंकि घर में प्रिया और गया के साथ संज्ञा के अलावा कोई नहीं रहता है। फुलवारी के खोजा इमली के रहने वाले गया प्रसाद का कहना है कि एम्स के डॉक्टरों की निगरानी में प्रिया की दवा चली और वह 10 दिन पहले निगेटिव हो गईं। लेकिन इस बीच मासूम पॉजिटिव हो गई। गया प्रसाद का कहना है कि वह भी चिकित्सा संस्थान से जुड़े हैं और उन्हें देखकर यह खुशी होती है कि उनकी बेटी में वायरस से लड़ने की क्षमता मां से मिल रही है। मां के पास रहने से बेटी की बड़ी एंटीबॉडी तैयार हो रही है। गया का कहना है कि मां की एक झप्पी ही बेटी की हंसी के सहारे कोरोना को मात दे रही है। उनका कहना है कि प्रिया ने कोरोना को हराया है, तो उसे पता है कि बेटी कैसे इस वायरस को हरा सकती है।