केन्द्रीय दल ने सोयाबीन की खराब हुई फसलों का किया निरीक्षण

0
3

amjad khan
शाजापुर। जिले में अतिवृष्टि और कीट व्याधि से खराब हुई फसलों का केंद्रीय दल ने बुधवार को निरीक्षण किया। कीट व्याधि से हुई फसल क्षति के आंकलन के लिए भारत सरकार की इंटरमिनिस्ट्रीयल सेन्ट्रल टीम में संयुक्त संचालक आईपीएम एन सत्यनारायण एवं अवर सचिव घनश्याम मीणा आए थे।

जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर दिनेश जैन ने फसलों की स्थिति से अवगत कराया। इस दौरान संयुक्त संचालक कृषि डीके पाण्डे, क्षेत्रीय केंद्रीय एकीकृत नाशजीवी प्रबंधन केंद्र इन्दौर के पौध संरक्षण अधिकारी जयराम बोकड़े, सुश्री स्नेहा गुप्ता, कृषि विज्ञान केन्द्र शाजापुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ कायमसिंह सहित किसान मौजूद थे। निरीक्षण के दौरान संयुक्त संचालक आईपीएम सत्यनारायण ने किसानों से चर्चा करते हुए कहा कि भारत सरकार द्वारा उन्हे क्षेत्र में खराब हुई सोयाबीन की फसल के निरीक्षण के लिए भेजा गया है। वे निरीक्षण के उपरांत भारत सरकार को रिपोर्ट सौपेंगे। उन्होने किसानों को सुझाव भी दिया कि एक ही प्रजाति की फसलों को बारबार लगाने के कारण फसलों में कीट व्याधि के प्रति प्रतिरोधक क्षमता धीर-धीरे घट जाती है।

इसलिए किसान फसल चक्र में बदलाव लाकर कीट व्याधि पर काबू पा सकते हैं। दल ने सर्वप्रथम ग्राम खातीखेड़ी के किसान रमेश्चन्द्र रघुनाथ के खेत में जाकर फसल का निरीक्षण किया। इसके उपरांत ग्राम अरण्डिया में किसान रशीद खां एवं राजेशकुमार दुर्गाप्रसाद, ग्राम तिलावद में मनोज वर्मा, ग्राम जेठड़ा में मानसिंह गंगाधार, ग्राम सलसलाई में मदनसिंह, ग्राम गोदना में संतोषसिंह, जीवनसिंह, ग्राम अभयपुर में रमेश्चन्द्र रामचन्द्र कुल्मी और फुलेन के किसानों के खेतों में जाकर फसलों का सूक्ष्मता से निरीक्षण किया।