समुद्र में केबल लिंक राज्य के नागरिकों को समर्पित, पीएम बोले-दिल्ली और दिल से दूरियों को पाटने का काम

0
50

नई दिल्ली, पीएम नरेंद्र मोदी ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह में समुद्र के भीतर केबल लिंक को राज्य के नागरिकों को समर्पित किया। पीएम ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस के पहले अंडमान के लोगों के लिए यह स्नेहभरा अवसर है। पीएम ने कहा कि यह उपलब्धि दिल्ली और दिल से दूरियों को पाटने वाला है। उन्होंने कहा कि समय से पहले इस योजना को पूरी करना एक प्रशंसनीय उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि यह योजना आसान नहीं थी, इसके लिए समुंदर की लहरों से लेकर तमाम रुकावटों का सामना करना पड़ा।

समय से पहले मुश्किल काम पूरा करना प्रशंसनीय-मोदी
पीएम ने कहा कि समुद्र के भीतर करीब 2,300 किलोमीटर तक केबल बिछाने का ये काम आसान नहीं था और समय से पूर्व इसे पूरा करना तो और प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा, ‘गहरे समुद्र में सर्वे करना, केबल की क्वालिटी को बरकरार रखना और विशेष जहाजों के जरिए केबल बिछाने का काम इतना आसान नहीं था।’

विराट थी चुनौतियां, यूं पाया पार
पीएम मोदी ने कहा कि जितना बड़ा ये प्रोजेक्ट था रुकावटें भी उतनी ही बड़ी थीं। उन्होंने कहा, ‘केबल बिछाने में कई दुरुह चुनौतियों का सामना करना पड़ा। समुद्र की लहरें, तूफान और मानसून की रुकावट को दरकिनार करते हुए इस काम को पूरा किया गया।’ पीएम ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण भी बहुत सी चीजें प्रभावित हुईं पर वो भी इस काम को पूरा होने से नहीं रोक पाईं।

दिल्ली और दिल से दूरियां को पाटा जाए
पीएम ने कहा कि देश के इतिहास, वर्तमान और भविष्य के लिए अंडमान के परिश्रमी नागरिकों को आधुनिक टेलिकाम कनेक्टिविटी देना देश का दायित्व था। आज एक पुराना और अहम सपना साकार हुआ है। मैं इस प्रोजेक्ट से जुड़े हर साथी को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। पीएम ने कहा, ‘हमारा समर्पण रहा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े सीमा और समुद्री सीमा का तेजी से विकास हो। हमारा समर्पण रहा है कि देश के हर जन तक, हर क्षेत्र तक आधुनिक सुविधाएं पहुंचें और दिल्ली से और दिल दोनों से दूरियां को पाटा जाए।

अंडमान को होगा बड़ा फायदा
पीएम ने कहा कि इस योजना को अंडमान को काफी फायदा होगा। मोबाइल और इंटरनेट सस्ती और तेज स्पीड के साथ मिलेगी। जिसके लिए आज भारत पूरी दुनिया में अग्रणी है। डिजिटल इंडियो को वो सभी लाभ मिल पाएंगे जो बाकी देश को मिलते हैं। यहां आने वाले पर्यटकों को भी काफी लाभ होगा। अंडमान में जो योजना वर्षों पूरी नहीं हो पाते थे अब वह जल्दी से हो रहे हैं।’