छत्तीसगढ़ को नशे के गर्त में ढकेलना चाहती थी भाजपा: धनंजय सिंह ठाकुर

0
3

छत्तीसगढ़ के युवाओं को गांजा भांग परोसने की सलाह दे रहे पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर

अजय चंद्राकर के ट्वीट पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया

शायद इसीलिए 138 साल पुराने आबकारी नीति में बदलाव कर सरकारी शराब दुकान खुलवाये

रमन सिंह तीसरे बार मुख्यमंत्री बने तो आबकारी नीति में बदलवाकर सरकारी शराब की दुकान खोले चौथे बार बनते तो शायद गांजा बिकवा देते

रायपुर, भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री विधायक अजय चंद्राकर के ट्वीट की निंदा करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा एवं प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय स्पष्ट करें भाजपा विधायक अजय चंद्राकर के ट्वीट में दी गई सलाह पर क्या मोदी सरकार सदन में विधेयक लाकर कानूनी जामा पहनाकर राष्ट्रीय स्तर पर इस प्रकार की व्यवसाय की व्यवस्था करने जा रही है ये माना जाये।छत्तीसगढ़ में जनता एक जुटता के साथ कोविड के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है।मोदी सरकार के कुप्रबन्धन गलतियों मनमानी के कारण देश कोविड महामारी का दंश झेल रहा है देश मे जहाँ 56 लाख से अधिक कोविड पॉजिटीव मरीज पाये गये है 85 हजार से अधिक लोगो की मौत हो गई है हर व्यक्ति कोविड से डरा सहमा हुआ है।ऐसे समय मे अजय चंद्राकर शर्मनाक टिविट कर छत्तीसगढ़ के युवाओं को गांजा भांग परोसने की बात करते है दुर्भाग्यजनक है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर के ट्वीट से स्पष्ट हो गया है भाजपा छत्तीसगढ़ को नशे के गर्त में धकेलना चाहती थी।तभी रमन सिंह तीसरे बार मुख्यमंत्री बने तो 138 साल पुरानी आबकारी नीति में बदलाव कर सरकारी शराब की दुकान का शुभारंभ किये। शायद रमन सिंह चौथी बार सीएम बनते तो अजय चंद्राकर के ट्वीट के हिसाब से भाजपा छत्तीसगढ़ में गांजा भांग भी बिकवाना शुरू कर देती। छत्तीसगढ़ की जनता ने सही समय पर भाजपा को सत्ता से बेदखल किया सत्ता से बेदखल होने के बाद निरंतर भाजपा के छत्तीसगढ़ विरोधी चरित्र उजागर हो रहे हैं भाजपा सत्ता में रहते छत्तीसगढ़ के किसानों मजदूरों युवाओं महिलाओं छात्रों का भला नहीं कर पाई अब विपक्ष में भी उनके हितों को बाधित कर रही है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के 19 महीने के कार्यकाल के बाद भाजपा नेता मुद्दों के दिवालियापन के दौर से गुजर रहे हैं। भाजपा के सांसद विधायक और भाजपा नेताओ के कृत्यों में व्यवहार में बयानों में चाहे सोशल मीडिया में हो इनके द्वारा लिखे गए लेख में छत्तीसगढ़ के ढाई करोड़ जनता का अहित ही झलकता है। भाजपा नेताओं के विचारों में हमेशा दरिद्रता और सोच में घृणा ही झलकती है। भाजपा नेताओं को अपने गिरी हुई मानसिकता से बाहर निकलकर छत्तीसगढ़ के जनता के बेहतर भविष्य के बारे में अच्छे विचार रखना चाहिए।