BJP के पास बताने को कुछ नहीं तो हिंसा पर उतर आए कार्यकर्ता- जीतू पटवारी

0
4

भोपाल
मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा क्षेत्रों में होने जा रहे उप चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों और नेताओं के पास बताने के लिए कुछ नहीं है। लोकतंत्र की हत्या कर पीछे के रास्ते से सत्ता हथियाने वाले लोगों ने जनता द्वारा पाँच साल के लिए चुनी गई सरकार को गिरा दिया। अब चुनाव में जब कुछ कहने को नहीं है जिसकी हतासा में अब वह हिंसा पर उतर आए है। मध्य प्रदेश कांग्रेस कांग्रेस कमेटी मीडिया विभाग के अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने यह बता कही।

उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री कमलनाथ जी के काफिले पर अनूपपुर में हुए पथराव और हिंसात्मक कार्यवाही की निंदा करते हुए कहा कि हार से डरे बिकाऊ भाजपा प्रत्याशी अब जनता का एक वोट 5 हजार रूपए में खरीदने की जुगत में लग गए है। जीतू पटवारी ने कहा कि विधानसभा के पटल पर यह स्पष्ट हो चुका है कि किसान कर्जमाफी, 100 रूपए में 100 यूनिट बिजली, अतिथि विद्वानों के नियमितिकरण का मामले पर इनके झूठ की कलई खुल गई है। अब भाजपा नोट से जनता का वोट लेना चाहती है। पहले भाजपा ने जनता द्वारा चुनी गई सरकार गिराकर लोकतंत्र को कलंकित किया अब नोट के बल पर वोट के अधिकार को कलंकित करना चाहती है।   

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कि भाजपा हार की बौखलाहट में हिंसा पर उतर आई है। कुछ दिन पहले भाजपा नेता श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने ग्वालियर में अपने कार्यकर्ताओं और नेताओं से कहा कि अगर कांग्रेस का कार्यकर्ता भाजपा के खिलाफ कुछ भी बोले तो उस पर चढ़ बैठों और ईंट का जवाब पत्थर से दो, यह उनकी बौखलाहट, निराशा और हतासा को दर्शाता है। भाजपा नेता हार की हतासा में अपने कार्यकर्ताओं को हिंसा के लिए उकसा रहे है। यही कारण है कि जिस तरह अनुपपुर में श्री कमलनाथ के काफिले पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने पत्थरों से हमला किया। उन्होंने कहा कि प्रशासन नपुसंकों जैसा व्यवहार कर रहा है, प्रशासन भाजपा कार्यर्ताओं की तरह व्यवहार कर रहा है।

जीतू पटवारी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर दतिया में जिस तरह एफआईआर दर्ज की गई यह प्रशासन की नपुंसकता को दर्शाता है। प्रशासन को इंतजाम करना चाहिए लेकिन वह नहीं कर रही है कोविड जैसी महामारी के बीच हमारे नेता नियमों का पालन कर रहे है। लेकिन जनता श्री कमलनाथ को सुनने, देखने और उनकी बात सुनने आ रही है तो बीजेपी को पेट में दर्द हो रहा है। जिसके चलते प्रशासन ने भाजपा कार्यकर्ताओं की तरह काम करते हुए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है। जबकि मुख्यमंत्री की सभाओं में क्या हो रहा है यह सब देख रहे है।

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा कि लोकतंत्र की हत्या करने वाले अब नोट के जरिए जनता का मत खरीदने की चेष्टा कर रहे है वह सफल नहीं होगें। लोकतंत्र को तार-तार करने वाले, लोकतंत्र की हत्या करने वाले लोग अब नोट के जरिए जनता का मत खरीदने की कोशिश में लग गए है। जिस तरह वोट की सरकार गिराकर नोट की सरकार बनाई थी उसी तरह अब नोट से जनता का वोट खरीदना चाहती है और जनता के वोट को कलंकित करना चाहती है।

उन्होंने बताया कि सांवेर के शिप्रा में एक आरएसएस कार्यकर्ता के पास से 50 लाख रूपए पकड़ाए है। वही आज फिर 10 लाख रूपए पकड़े गए है। यह साफ करता है कि भाजपा लोकतंत्र की हत्या कर जनता के वोट को कलंकित करने पर तुली है। जीतू पटवारी ने कहा कि कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी चयन में कोई गलती नहीं की है 10 नवम्बर को जब परिणाम आएगें तो पता चलेगा कि कांग्रेस ने प्रत्याशी चयन में गलती नहीं की है।