सबकी नजर ग्वालियर-चंबल अंचल की 16 सीटों पर, पार्टियों ने बिछाई चौसर

0
3

जातीय समीकरणों को साधने सामाजिक क्षत्रपों को मैदान में उतारा

भोपाल। 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में ग्वालियर-चंबल अंचल की 16 सीटों का सबसे बड़ा महत्व है। इसलिए सभी पार्टियों की निगाह इन्हीं सीटों पर है। ऐसे में जातीय समीकरणों को साधने के लिए भाजपा ने अनुसूचित व पिछड़े वर्ग के नेताओं को चुनावी समर में उतार दिया है। अनुसूचित वर्ग को भाजपा से जोडऩे के लिए अनुसूचित जाति मोर्चा के नवागत अध्यक्ष लाल सिंह आर्य, पिछड़े वर्ग के वोटरों को साधने के लिए राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल, विधायक प्रदीप पटेल, राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह, सांसद रीति पाठक को चुनावी मैदान में उतार दिया है। यह लोग अपने-अपने समाज में जाकर छोटी-छोटी संभाएं ले रहे हैं। समाज के प्रबुद्ध लोगों से चर्चा कर रहे हैं। अनुसूचित व पिछड़े वर्ग के सम्मेलन आयोजित किए जा रहे हैं।
दूसरी तरफ चुनाव प्रचार के पहले चरण में कांग्रेस में लीडरशिप की कमी खल रही है। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के रोड-शो से प्रफुल्लित होने के बाद कांग्रेस ठंडी नजर आ रही है। पिछले 7 दिन में पहली व दूसरी पंक्ति के कोई बड़े नेता अंचल में नहीं आए हैं।

दलित वर्ग को साधने आर्य मैदान में
ग्वालियर-चंबल अंचल में एट्रोसिटी एक्ट के बाद अनुसूचित वर्ग की नाराजगी दूर करने के लिए अंचल के प्रमुख अनुसूचित वर्ग के पूर्व मंत्री लाल सिंह आर्य को मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त किया है। भाजपा ने ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र के अनुसूचित वर्ग के वोटों को साधने के लिए उतार दिया है। लाल सिंह आर्य पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल के साथ 5 दिन से घूम रहे हैं। स्थानीय स्तर पर छोटी-छोटी नुक्कड़ सभाएं ले रहे हैं। साथ ही समाज के प्रमुख लोगों से चर्चा कर भाजपा से अनुसूचित वर्ग की नाराजगी दूर करने का प्रयास कर रहे हैं। 2018 के विधानसभा चुनाव में इस वर्ग के नाराज होने का बड़ा खमियाजा उठाना पड़ा था। इसके अलावा भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री दुष्यन्त गौतम भी बैठकें ले चुके हैं।

पिछड़ा वर्ग के लिए राज्यमंत्री पटेल तैनात
29 सितंबर को प्रदेश में पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्ज देने के बाद पिछड़े वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री रामखेलावन पटेल व विधायक प्रदीप पटेल को अंचल में पिछड़ी जातियों को साधने के लिए भेजा है। रामखेलावन पटेल पिछड़ी जातियों को समझा रहे हैं कि कांग्रेस नहीं भाजपा उनकी हितैषी है।

कुशवाह समाज के लिए भारत सिंह मैदान में
अंचल में कुशवाह समाज का वोटर भी काफी संख्या में है। प्रदेश के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह भी पिछले पांच दिन से ग्वालियर पूर्व व ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में घूम रहे हैं। अपने समाज के लोगों को समझा रहे हैं कि कुशवाह समाज को भाजपा ने पूरा सम्मान दिया है। पहले नारायण सिंह कुशवाह भी शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल में दो बार मंत्री रह चुके हैं।

नरोत्तम मिश्रा को भी मैदान में उतारने की तैयारी
भाजपा अंचल के ब्राह्मण वोटरों को लुभाने के लिए प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी चुनाव प्रचार में उतारने की तैयारी कर रही हैं। डबरा व भांडेर विधानसभा क्षेत्र में नरोत्तम मिश्रा पहले से सक्रिय हैं।

कांग्रेस के दिग्गज भी मैदान में है
कांग्रेस के मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने बताया कि पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा, अजय सिंह, अरुण सिंह यादव, पीसी शर्मा, पूर्व प्रदेश प्रभारी मोहन सिंह व जबलपुर के विधायक पहले ग्वालियर-अंचल का दौरा कर चुके हैं। इसके अलावा कमल नाथ का अभूतपूर्व रोड -शो हो चुका है। अभी चुनाव की शुरूआत है। कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता प्रियंका गांधी, सचिन पायलट सहित अन्य नेताओं को दौरा कार्यक्रम तैयार हो रहा है। यह लोग चुनाव इस माह के मध्य व अंत में चुनाव प्रचार के लिए आएंगे। कांग्रेस चुनाव में सक्रिय है। भाजपा से पहले प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी है। पूरा चुनाव प्रचार रणनीति के अनुसार चल रहा है।