एआईसीटीई ने प्रवेश के कार्यक्रम में किए बदलाव, फार्मेसी में CLC के पहले होगा तीसरा राउंड

0
6

एआईसीटीई के संशोधित कार्यक्रम और विद्यार्थियों की डिमांड पर हुआ निर्णय

भोपाल, अखिल भारतीय तकनीक शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने अपने प्रवेश के कार्यक्रम में काफी बदलाव किए हैं। तकनीकी शिक्षा विभाग के बीफार्मा और डीफार्मा कोर्स की तीसरे राउंड की काउंसलिंग कराएगा। वहीं दूसरी तरफ फार्मेसी की डिमांड ज्यादा होने के कारण विभाग को तीसरे राउंड में भी बेहतर प्रवेश होने की उम्मीद है।

कोरोना काल के कारण विद्यार्थी बाहर रहकर डीफार्मा और बीफार्मा डिग्री करने को तैयार है। पहले राउंड में करीब पांच हजार प्रवेश होने के बाद 25 सितंबर को दूसरे राउंड में करीब पांच हजार विद्यार्थियों के अलाटमेंट जारी करेगा। इसके बाद आयुक्त तकनीकी शिक्षा विभाग कालेज लेवल काउसंलिंग सीएलसी कराने जा रहे थे। इसी बीच एआईसीटीई ने देशभर के कालेजों में कोरोना काल को देखते हुए प्रवेश कार्यक्रम में संशोधन कर दिए हैं। पूर्व में एआईसीटीई ने तीस अक्टूबर तक प्रवेश कराने का कार्यक्रम जारी किया था। उसे बदलकर तीस नवंबर कर दिया है। इसलिए विभाग ने तीसरे राउंड की काउंसलिंग आठ अक्टूबर से कराने की व्यवस्था जमा दी है, जो बीस अक्टूबर तक चलेगी। इसके बाद विभाग 25 अक्टूबर से सीएलसी कराने की व्यवस्था कर सकता है। इससे कालेजों में होने वाले प्रवेश में इजाफा होना तय हो गया है।

विद्यार्थियों में मिल रहे रोजगार
विगत चार सालों से बीफार्मा और डीफार्मा में प्रवेश लेने की डिमांड विद्यार्थियों में बढ़ रही है। इसका कारण बीफार्मा और डीफार्मा करने के बाद विद्यार्थियों को रोजगार के बेहतर अवसर मिल रहे हैं। इसलिए विद्यार्थी बीएससी करने से ज्यादा बीफार्मा और डीफार्मा में प्रवेश लेने में ज्यादा रुचि दिखा रहे हैं।