किसानों के सशक्तिकरण के नए युग की शुरूआत है कृषि बिल: मुख्यमंत्री

0
5

भोपाल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि संसद में पारित कृषि बिल किसानों के सशक्तिकरण की दृष्टि से ऐतिहासिक है। यह बिल एक नए युग की शुरूआत है। मुख्यमंत्री चौहान ने इस किसान हितैषी बिल के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री चौहान ने बिल का विरोध करने वालों की अनावश्यक भ्रम फैलाने के लिए आलोचना की है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पहले लोकसभा और आज राज्यसभा में पारित कृषि बिल किसानों की आय बढ़ाने, उत्पादन का बेहतर मूल्य दिलाने, उन्हें अतिरिक्त आय का विकल्प प्रदान करने की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। मध्यप्रदेश के किसान भी बिल का समर्थन कर रहे हैं क्योंकि इसके पश्चात भी कृषि मण्डी का अस्तित्व रहेगा। व्यापार चालू रहेगा। किसान मण्डी के बाहर फसल का विक्रय करना चाहे तो उसे नहीं रोका जाना चाहिए। यदि किसान को किसी वेयर हाउस, निजी मण्डी पर भी विक्रय की सुविधा और बेहतर दाम मिल रहे तो इससे किसी को आपत्ति नहीं होना चाहिए। यदि कोई फूड प्रोसेसर किसान से सीधे ही उत्पाद खरीदना चाहे तो बिचौलियों को क्यों अपने लाभ की चिंता सताती है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सीधे निर्यातक भी किसान से उपज खरीदने के बाद एक्सपोर्ट करता है तो किसी को क्या समस्या है, यह समझ से परे है। कृषि विधेयक के संबंध में कुछ लोग भ्रम फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों के हित में निरंतर निर्णय लिए हैं। किसान की आय दुगनी करने का अभियान भी चल रहा है। केन्द्र सरकार के साथ मध्यप्रदेश सरकार भी किसानों के अधिक से अधिक कल्याण के लिए कटिबद्ध है।