अनिश्चितकालीन कलम बंद हड़ताल पर कृषि वैज्ञानिक/प्राध्यापक

0
171

सातवां वेतनमान लागू किए जाने सहित कई मांगों को लेकर चल रहा धरना

मुरैना। केन्द्रीय प्राध्यापक/वैज्ञानिक तकनीकी परिषद राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर के आह्वान पर लंबित मांगों, सातवां वेतनमान लागू किए जाने, 16वें चक्र के सीएएस प्रमोशन व अन्य मांगो को पूरा किए जाने हेतु सभी 5 महाविद्यालयों ग्वालियर, इंदौर,सीहोर, खंडवा एवं मंदसौर, 13 अनुसन्धान केन्द्रों, सभी जिले के 22 कृषि विज्ञान केन्द्रों के प्राध्यापक एवं वैज्ञानिक/ तकनीकी अधिकारी कामबंद कर शांति पूर्ण धरना प्रदर्शन कर रहे हैैं।

काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन

वैज्ञानिकों द्वारा 11 जनवरी से काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया गया था, लेकिन मांगें न माने जाने पर परिषद के समस्त वैज्ञानिकों ने 18 जनवरी से अनिश्चितकालीन कलम बंद हड़ताल शुरू कर दी है। आंदोलन में राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर के अंतर्गत संचालित समस्त, कृषि महाद्यिालय, कृषि अनुसंधान केन्द्रों एवं कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक/कर्मचारी शामिल हैं।

प्रदेश को कृषि कर्मण अवार्ड दिलाने वाले परेशान

हड़ताल पर बैठे प्राध्यापक और वैज्ञानिकों का कहना है कि हम लगातार प्रदेश में कृषि की उन्नति के लए प्रयास कर रहे हैं, जिसके कारण प्रदेश को लगातार कृषि कर्मण अवार्ड मिल रहा है, लेकिन हमारी मांगों पर न तो विश्वविद्यालय ध्यान दे रहा है और न ही सरकार। वैज्ञानिकों का कहना है कि जब तक मांगें मानीं नहीं जाती तब तक हड़ताल जारी रहेगाी।