दिग्विजय के खिलाफ लगाया 10 करोड़ की मानहानि का केस

0
1

पूर्व मुख्यमंत्री ने लगाया था 35-35 करोड़ में बिकने का आरोप

भोपाल, प्रदेश सरकार के चार मंत्रियों ने कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ मानहानि का मामला पेश किया है। मानहानि का यह मामला दिग्विजय सिंह के उस बयान के बाद लगाया गया है जिसमें उन्होंने कहा था कि जो लोग कांग्रेस से गद्दारी कर 35-35 करोड़ में बिके उन्हें जिन लोगों ने उन्हें वोट दिए उसमें से वोट देने वालों को उनका हिस्सा देना चाहिए।

सोमवार को विधायकों और सांसदों के मामलों की सुनवाई कर रहें विशेष न्यायाधीश प्रवेन्द्र कुमार सिंह की अदालत में भाजपा सरकार में चार मंत्रियों की ओर से 10-10 करोड़ रुपए की मानहानि का परिवाद पेश किया गया है। जिन मंत्रियों ने मानहानि का मामला लगाया है उनमें मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसौदिया और मुन्नालाल गोयल शामिल है। न्यायाधीश ने परिवाद पर अगली सुनवाई और परिवादियों के बयान दर्ज करने के लिये 18 नंवबर की तारीख तय की है।

मंत्रियों की ओर से मानहानि का परिवाद पेश करने वाले एडवोकेट विजय शर्मा और मोहम्मद शफीक ने बताया कि 17 अक्टूबर को दिग्विजय सिंह ने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा था क लोकतंत्र के बही खाते में जो लोग कांग्रेस से गद्दारी कर 35-35 करोड़ में बिके उन्हें जिन लोगों ने उन्हें वोट दिए उसमें से वोट देने वालों को उनका हिस्सा देना चाहिए। जब तक उन्हें उनका 35 करोड़ में से हिस्सा ना मिले तब तक उन्हें वोट नहीं देना चाहिए।

मंत्रियों ने 10 करोड़ की क्षतिपूर्ति मांगी
विधायकों और सांसदों के मामलों की सुनवाई कर रहें विशेष न्यायाधीश प्रवेंद्र कुमार सिंह की अदालत में मानहानि मामले में परिवाद पेश करने वाले मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, प्रदुमन्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसौदिया और मुन्नालाल गोयल ने परिवाद में अदालत से मांग की है कि दिग्विजय सिंह को दंडित कर उन्हें 10-10 करोड़ रुपए बतौर मानहानि की क्षतिपूर्ति दिलाई जाये।