हाथरस गैंगरेप: योगी आदित्यनाथ के प्रदेश में कभी भी पलट जाती है गाड़ी: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय

0
3

 भोपाल                                                   
उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित युवती से गैंगरेप के बाद हत्या के मामले में पूरे देशभर में लोगों का गुस्सा सामने आ रहा है। इस बीच, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी प्रतिक्रिया दी है। विजयवर्गीय ने पूरे मामले को एनकाउंटर में मारे गए अपराधी विकास दुबे से जोड़ते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ के प्रदेश में कभी भी गाड़ी पलट जाती है। विजयवर्गीय का इशारा विकास दुबे मामले की ओर था, जिसमें उत्तर प्रदेश पुलिस दुबे को मध्य प्रदेश से कानपुर लेकर लौट रही थी। इसी दौरान, कानपुर के पास एक एनकाउंटर में विकास दुबे को ढेर कर दिया गया था। 

बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने हाथरस गैंगरेप की घटना पर पूछे गए सवाल पर कहा, ''आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजा जा रहा है। मुझे लगता है कि थोड़ा सब्र करना चाहिए।'' बीजेपी नेता ने आगे कहा कि इस मामले में सभी आरोपी जेल में होंगे, क्योंकि योगी आदित्यनाथ जो वहां के मुख्यमंत्री हैं, मैं जानता हूं कि उनके प्रदेश में कभी भी गाड़ी पलट जाती है।
 
विकास दुबे एनकाउंटर के दौरान पलट गई थी गाड़ी
दरअसल, विकास दुबे का एनकाउंटर करने के बाद पुलिस ने जानकारी दी थी कि उनकी गाड़ी पलटने की वजह से विकास दुबे ने पुलिस की पिस्तौल छीनने की कोशिश की थी। जब वह गाड़ी से उतरकर भाग रहा था, तभी पुलिस ने उसका पीछे करते हुए एनकाउंटर कर दिया था। इस घटना में कुछ पुलिसकर्मियों को भी चोट लगी थी। पुलिस ने गाड़ी पलटने के पीछे की वजह सामने से अचानक आईं कुछ गाय-भैंसों को बताया था।

हाथरस गैंगरेप पर फूट रहा देशभर में लोगों का गुस्सा
हाथरस में दलित युवती के साथ गैंगरेप के बाद आम लोगों से लेकर हर क्षेत्र के लोगों का गुस्सा निकलकर सामने आ रहा है। वहीं, सीएम योगी ने मामले में जड़ तक पहुंचने के लिए एसआईटी गठित कर दी है। इस टीम में दलित और महिला अधिकारी भी शामिल किए गए हैं। इस तीन सदस्‍यीय टीम की अध्‍यक्षता गृह सचिव भगवान स्वरूप करेंगे। दूसरी ओर, घटना पर विपक्षी दलों ने योगी सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर जोरदार हमला बोला। उन्होंने पुलिस द्वारा जबरन किए गए अंतिम संस्कार को घोर अमानवीयता बताया और साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफे की मांग की है।