स्वच्छ सर्वेक्षण सर्वे में मध्यप्रदेश तीसरे स्थान पर, पहले नंबर पर लाने निकायों को टार्गेट

0
3

 

भोपाल
स्वच्छ सर्वेक्षण सर्वे में ओवरआल रैंकिंग में मध्यप्रदेश तीसरे स्थान पर रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी निकायों को लक्ष्य दिया है कि अगले साल मध्यप्रदेश को हर हाल में नंबर वन पर लाना है इसलिए शहरों की साफ-सफाई व्यवस्था दुरुस्त की जाए और शतप्रतिशत घर से कचरा उठाना और उसका सेग्रीगेशन सुनिश्चित किया जाए।

आगामी सर्वेक्षण में बेहतरीन प्रदर्शन हेतु सभी नगरीय निकायों को लक्ष्य निर्धारित कर प्रयास शुरु करने को कहा गया है । इसमें आमजन को जागरुक कर स्थानीय लोगों, समाजसेवियों, जनप्रतिनिधियों तथा धार्मिक संस्थाओं से सहयोग प्राप्त करने को कहा गया है। शहरों में जो अधोसंरचनाएं, एफएसटीपी, एसटीपी, मटेरियल रिकवरी केन्द्र तैयार है उन्हें एक माह के अंदर पूरी तरह से कार्यशील करने को कहा गया है। अगले माह से स्टेट टीम निकायों में भ्रमण कर उनका अवलोकन करेंगी।संचालन नहीं पाए जाने पर कार्यवाही होगी।

राज्य स्तर पर होगी रैंकिंग
अब केन्द्र सरकार की रैंकिंग के अतिरिक्त राज्य स्तर पर भी सभी निकायो की प्रत्येक माह की रैंकिंग की जाएगी और जिन निकायों के अधिकारियों द्वारा कार्यवाही नहीं की जा रही है उनके विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

वार्ड, बाजारों में कचरे के ढेर ना हो
शहर को साफ रखने के लिए सभी निकायों को यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि शहर का कोई भी भाग गंदा ना हो। बाजारों और वार्डो में कचरे का ढेर ना हो। कचरे निपटान की उचित व्यवस्थाएं की जाए।Þ

पिछड़े निकायों के अफसरों को फटकार
स्वच्छ सर्वेक्षण अभियान के परिणाम में नगरीय निकायों द्वारा अपेक्षाकृत कम प्रदर्शन करने वाले निकायों के अफसरों से कहा गया है कि वे आत्मअवलोकन करे। जिन निकायों में कमजोर प्रदर्शन हुआ है उनमें एक से दस लाख आबादी वाले निकायों में होशंगाबाद को 315 वी रैंकिंग  पचास हजार से एक लाख आबादी वाले निकायों में नगर पालिका सिरोंज को 116 वी रैंकिंग, 25 हजार से पचास हजार आबादी वाली नगर पालिका सबलगढ़ को 291 वी जोनल रैंकिंग,  25 हजार से कम जनसंख्या वाली नगर परिषद तरीचरकला को 558 वी जोनल रैंकिंग मिली है।