लीबिया में कुशीनगर के कामगार सहित सात भारतीयों का आतंकियों ने किया अपहरण

0
1

 महराजगंज 
लीबिया में आर्गन वेल्डर पद पर काम करने वाले कुशीनगर और देवरिया के कामगार समेत सात भारतीयों का आतंकियों ने अपरहण कर लिया है। अपहृतों में देश के अन्य राज्यों के अलावा बिहार के भी कामगार शामिल हैं। इस मामले में महराजगंज जनपद के कोठीभार थाना क्षेत्र निवासी लल्लन प्रसाद ने दिल्ली के प्रसादपुर थाने में ऑनलाइन केस दर्ज कराकर विदेश मंत्रालय से अपने साढ़ू कुशीनगर निवासी मुन्ना चौहान समेत अन्य कामगारों की रिहाई के लिए सुरक्षित कदम उठाने की गुहार लगाई है। विदेश मंत्रालय के अलावा पीएम व गृह मंत्रालय के पोर्टल पर भी प्रार्थना पत्र भेजकर त्वरित कार्रवाई की मांग की है।

मुल्क वापस लौटते समय एयरपोर्ट के पहले हुआ अपहरण 
कोठीभार क्षेत्र के बैजनाथपुर निवासी लल्लन ने बताया कि कुशीनगर के ग्राम सभा गड़हिया बसंतपुर निवासी उनका साढ़ू मुन्ना चौहान विगत वर्ष बिहार, देवरिया व आंध्रप्रदेश के छह अन्य युवकों के साथ दिल्ली के एनडी इंटरप्राइजेज ट्रैवेल एजेंसी के माध्यम से एक साल के लिए आर्गन वेल्डर पद पर काम करने के लिए लीबिया गया था। मुन्ना सहित सातों लोगों का 13 सितंबर 2020 को वीजा समाप्त हो गया। इसी दिन अंतिम बार लल्लन और मुन्ना की बात हुई थी। मुन्ना ने बताया था कि 17 सितंबर को उन सातों लोगों की भारत वापसी के लिए फ्लाइट है। उसके बाद से लल्लन का मुन्ना से संपर्क टूट गया। मुन्ना के घर वापस नहीं आने पर लल्लन ने ट्रैवेल एजेंसी से कई बार फोन पर संपर्क किया। लेकिन एजेंसी वाले कुछ भी नहीं बता रहे थे। इसके बाद लल्लन ने 27 सितंबर को दिल्ली पहुंचकर जब ट्रैवल एजेंसी के मालिक से संपर्क किया तब पता चला कि मुन्ना सहित सातों लोगों का लीबिया में एयरपोर्ट पर आने से पहले ही अपराधियों द्वारा अपहरण कर लिया गया है। 

रिहाई के लिए आतंकियों ने मांगी 20 हजार डॉलर की फिरौती 
लल्लन ने बताया कि उनके साढू समेत अन्य कामगारों की रिहाई के लिए आतंकियों ने लीबिया के कंपनी मालिक से फिरौती में 20 हजार डॉलर की मांग की है। कंपनी मालिक ने फिरौती की रकम को देने के लिए स्वीकार भी कर लिया है। कंपनी मालिक ने आश्वासन दिया गया है कि सातों को 3 से 4 दिन के अंदर छुड़वाकर भारत भेजने का बंदोबस्त कर दिया जाएगा। लेकिन अभी तक मुन्ना व अन्य छह भारतीयों की रिहाई नहीं हुई है। 

ट्यूनीशिया एंबेसी ने शुरू की बात 
अपहरण के मामले में अभी तक जो बातें सामने आई है उसके मुताबिक लीबिया में कामकाज की देखभाल ट्यूनीशिया स्थित भारतीय दूतावास करता है। ट्यूनीशिया दूतावास ने इस मामले का संज्ञान लिया है। पूरे मामले पर नजर बनाए हुए है। लगातार लीबिया सरकार से इस मामले में बातचीत की बात सामने आ रही है।

इनका हुआ है अपहरण
कुशीनगर के कामगार मुन्ना चौहान के अलावा जिन छह अन्य कामगारों के लीबिया में अपहरण की बात सामने आ रही है उनमें महेन्द्र सिंह, वेंकटारों बचाला, शाह अजय, उमेदी रहीम भाई मुल्तानी, दान्या बोड्डू व जगारो बचाला है। यह एनडी इंटर प्राइजेज ट्रैवल एजेंसी एंड मैन पॉवर कंसल्टेंस हेमकुंट हाउस नई दिल्ली के माध्यम से एक साल के लिए लीबिया में आर्गन वेल्डर पद पर काम करने गए थे।