रूसी वैक्सीन विश्वसनीय, सुरक्षित और प्रभावी साबित हुई -राष्ट्रपति पुतिन

0
2

संयुक्त राष्ट्र
संयुक्त राष्ट्र महासभा की 75वीं वर्षगाठ को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी संबोधित किया। पुतिन ने कहा कि रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन ट्रायल के दौरान विश्वसनीय, सुरक्षित और प्रभावी साबित हुई है। हम इस वैक्सीन को दुनिया के सभी देशों के साथ बांटने को तैयार हैं। उन्होंनें संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारियों को निशुक्ल इस वैक्सीन का डोज दिए जाने की पेशकश भी की।

दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा
पुतिन ने यूएनजीए के सम्मेलन में कहा कि हमारे डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने इंडस्ट्रियल और क्लिनिकल अनुभवों के आधार पर कोरोना वायरस का तुरंत पता लगाने और उका इलाज करने के लिए टेस्टिंग सिस्टम और दवाओं की एक श्रृंखला विकसित की है। उन्होंने दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन स्पूतनिक वी (Sputnik V Vaccine) को भी बनाया है।

वैक्सीन पर आयोजित करेंगे अतंरराष्ट्रीय सम्मेलन
उन्होंने आगे कहा कि हम साथी संबंधों के लिए पूरी तरह से खुले हैं और सहयोग करने के लिए तैयार हैं। इसके लिए हम एंटी-कोरोना वायरस वैक्सीन के विकास में सहयोग के इच्छुक देशों के लिए शीघ्र ही एक ऑनलाइन उच्च-स्तरीय सम्मेलन आयोजित करने का प्रस्ताव कर रहे हैं।

सभी देशों के साथ बाटेंगे वैक्सीन
हम अपने अनुभव को साझा करने और सभी राज्यों और अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं के साथ सहयोग जारी रखने के लिए तैयार हैं। इस सहयोग में रूसी कोरोना वायरस वैक्सीन की आपूर्ति भी शामिल है। यह वैक्सीन अन्य देशों के लिए विश्वसनीय, सुरक्षित और प्रभावी साबित हुई है।

यूएन कर्मचारियों को वैक्सीन फ्री में देने का ऐलान
उन्होंने आगे कहा कि कोरोना वायरस ने संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारियों, इसकी मुख्यालय और क्षेत्रीय संरचनाओं को बुरी तरह प्रभावित किया है। रूस सभी आवश्यक और योग्य सहायता के जरिए संयुक्त राष्ट्र की मदद करने को तैयार है। हम संयुक्त राष्ट्र और उसके कार्यालयों के कर्मचारियों के स्वैच्छिक टीकाकरण के लिए अपनी वैक्सीन निशुल्क देने की पेशकश कर रहे हैं।