मैंने कांग्रेस छोड़ी क्योंकि मैं उनकी कार्यप्रणाली से खुश नहीं थी-खुशबू

0
2

चेन्नै
दक्षिण भारतीय फिल्मों की अभिनेत्री खुशबू सुंदर डीएमके से कांग्रेस में गईं और अब कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गई हैं। लगभग एक दशक पहले राजनीति में आईं खुशबू हमेशा विवादों में ही घिरी रहीं। तमाम उतार-चढ़ाव के बावजूद खुशबू राजनीति में अपना स्थान बनाए रहीं।

कांग्रेस छोड़े जाने के सवाल उन्होंने कहा, 'मैं इस बारे में बहुत विस्तार से बात नहीं करना चाहती। मैंने कांग्रेस छोड़ी क्योंकि मैं उनकी कार्यप्रणाली से खुश नहीं थी। कांग्रेस पार्टी अब बदल गई है। पार्टी के लोग बदल गए हैं और उनके विचार बदल गए हैं।' खुशबू ने कहा, 'कांग्रेस मुझे जिम्मेदारी देने की बात बीते चार साल से कर रही थी। मैंने उन्हें बताया कि स्थानीय नेता मेरे साथ अच्छा व्यवहार नहीं कर रहे हैं लेकिन वे नहीं जागे।'

'मैं भीड़ जुटा सकती हूं, अलागिरी नहीं'
खुशबू के कांग्रेस छोड़ने के बाद कहा गया कि वह नेता नहीं एक अभिनेत्री हैं। वह कमल को सींचने गई है। इस सवाल पर खुशबू ने कहा कि इस तरह की टिप्पणी करना गलत है। मैं कभी एक अभिनेत्री थी लेकिन तमिलनाडु कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष केएस अलागिरी को तो कोई भी नहीं जानता था। मैं भीड़ जुटा सकती हूं लेकिन अलागिरी नहीं। उनका महिलाओं के लिए इसी तरह का व्यवहार है। बुद्धिमान और वाक्पटु कौन है? मेरे लिए नम्रता भाड़ में गई, मैं एक बोल्ड हूं, सुंदर हूं और साहसी महिला हूं।

'कांग्रेस मुसलमानों की बात करती है…'
खुशबू ने कहा कि उनकी विचारधारा है कि लोगों की सेवा करो और देश के लिए काम करो। लोग मुझे कहते हैं कि मैं एक अवसरवादी हूं, लेकिन मैंने कभी भी किसी पार्टी में जाकर पद के लिए मोलभाव नहीं किया। उन्होंने कहा, 'धर्मनिरपेक्षता पर मेरा रुख नहीं बदला है। मैंने बीजेपी जॉइन की क्योंकि मैंने पार्टी को समझा और मेरे अंदर बदलाव आया। कांग्रेस मुसलमानों के लिए काम करती है लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं कि वे हिंदुओं के खिलाफ हैं। ऐसा ही कुछ बीजेपी के साथ भी है।'

'बीजेपी के पक्ष में किया था ट्वीट'
बीजेपी के खिलाफ बोलने वाली खुशबू ने वही पार्टी जॉइन की, इस सवाल पर उन्होंने कहा, 'मैंने बीजेपी के खिलाफ सोशल मीडिया में लिखा क्योंकि मैं कांग्रेस में थी, इसके अलावा तीन तलाक के मुद्दे पर मैंने पीएम को बधाई भी दी थी।'