प्रदेश में 21 दिनों में 37% कम हुए कोरोना केस, रिकवरी रेट में भी हुआ इजाफा

0
4

भोपाल
 मध्य प्रदेश में कोरोना (Corona) को लेकर राहत भरी खबर सामने आई है. लगातार मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद अब मरीजों की संख्या में गिरावट दर्ज की जा रही है. मंगलवार को हुई कोरोना की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) के सामने कोरोना की स्टेटस रिपोर्ट पेश की गई. इसके मुताबिक, कोरोना की स्थिति में प्रदेश में सुधार हो रहा है. जबकि पिछले तीन सप्ताह में प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरणों में 37 फीसदी की कमी आई है. वहीं, प्रदेश का रिकवरी रेट (Recovery Rate) 88.4 हो गया है और बड़ी संख्या में मरीज रोज़ स्वस्थ हो रहे हैं. एक्टिव मरीजों की संख्या जो 20 हजार से ऊपर पहुंच गई थी, अब घटकर 14932 रह गई है. इसके अलावा मृत्यु दर में भी गिरावट आई है और अब प्रदेश में मृत्यु दर 1.78 प्रतिशत हो गई है.

इंदौर-भोपाल में सबसे ज्यादा केस
जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश के इंदौर एवं भोपाल जिलों में कोरोना के सर्वाधिक नए प्रकरण सामने आ रहे हैं. इंदौर में कोरोना के 418 और भोपाल में 213 नए प्रकरण आए हैं. हालांकि सभी जिलों में कोरोना की ग्रोथ रेट में निरंतर कमी आ रही है. इंदौर में कोरोना की ग्रोथ रेट 1.59 प्रतिशत है, वहीं भोपाल में यह 1.15 प्रतिशत है.

ग्वालियर, मुरैना और उज्जैन में सुधार
समीक्षा में पाया गया कि ग्वालियर, उज्जैन एवं मुरैना जिले, जहां पर पूर्व में कोरोना का अधिक संक्रमण था, वहां कोरोना की स्थिति में विशेष सुधार हुआ है. ग्वालियर में नए कोरोना प्रकरण 50 आए हैं और वहां कोरोना ग्रोथ रेट 0.51 फीसदी है. इसी प्रकार उज्जैन में नए कोरोना प्रकरण 10 आए हैं और वहां कोरोना ग्रोथ रेट 0.51फीसदी  है. इसके अलावा मुरैना में कोरोना के 8 नए प्रकरण आए हैं और वहां की कोरोना ग्रोथ रेट 0.27 फीसदी है.

55 फीसदी मरीज होम आइसोलेशन में
समीक्षा के दौरान स्वास्थ्य सचिव मो. सुलेमान ने बताया कि प्रदेश में कोरोना के कुल मरीजों में 55 फीसदी मरीज होम आइसोलेशन में हैं. जबकि 45 फीसदी मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं. होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की हर जिले में स्थापित कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के माध्यम से मॉनिटरिंग की जा रही है.