पासवान के निधन पर सीएम नीतीश बोले- व्यक्तिगत तौर पर दुख पहुंचा, लालू यादव का ट्वीट- अति मर्माहत हूं…

0
3

पटना
केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के दिग्गज नेता राम विलास पासवान का निधन (Ram Vilas Paswan Passed Away) हो गया है। बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने ट्वीट के जरिए इस बात की जानकारी दी है। पासवान के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के सीएम नीतीश कुमार समेत दिग्गज सियासी हस्तियों ने शोक जताया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक जताते हुए कहा कि पासवान भारतीय राजनीति के बड़े हस्ताक्षर थे। उनसे हमारा बेहद पुराना रिश्ता था। उनके निधन से मुझे व्यक्तिगत तौर पर दुख पहुंचा है।

भारतीय राजनीति के बड़े हस्ताक्षर थे पासवान: नीतीश कुमार
बिहार के मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा कि रामविलास पासवान प्रखर वक्ता, लोकप्रिय राजनेता, कुशल प्रशासक, मजबूत संगठनकर्ता और बेहद मिलनसार व्यक्तित्व के धनी थे। वे पहली 1969 में बिहार विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए ते। 1977 में पहली बार हाजीपुर से लोकसभा के लिए चुने गए थे। उनकी जीत वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज हुई थी।

लालू यादव का ट्वीट- अति मर्माहत हूं
रामविलास पासवान के निधन पर आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने भी दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि रामबिलास भाई के असामयिक निधन का दुःखद समाचार सुन अति मर्माहत हूं। विगत 45 वर्षों का अटूट रिश्ता और उनके संग लड़ी तमाम सामाजिक, राजनीतिक लड़ाइयां आंखों में तैर रही हैं। रामबिलास भाई, आप जल्दी चले गए। इससे ज़्यादा कुछ कहने की स्थिति में नहीं हूं। ॐ शांति ॐ।

सुशील मोदी ने कहा- बिहार की राजनीति को अपूरणीय क्षति
केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गहरा शोक जताया है। उन्होंने पासवान के निधन को बिहार की राजनीति की अपूरणीय क्षति बताते हुए दिवंगत आत्मा की शांति की ईश्वर से प्रार्थना की है। सुशील मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा है पासवान से उनका 30 वर्षों से ज्यादा का साथ-सम्पर्क रहा है। वे जिस भी विभाग के मंत्री रहे अपनी अमिट छाप छोड़ी और हमेशा पूरे देश और बिहार के लिए काम किया। उनके योगदान को बिहार की जनता कभी भूल नहीं सकती है। पासवान एक ऐसे दलित नेता थे जो हमेशा समाज के सभी वर्गों से समन्वय और तालमेल बैठा कर अपनी राजनीति करते रहे। इसी वजह से दलितों, पिछड़ों के साथ सवर्णों का भी उन्हें हमेशा साथ मिला।

मंगल पांडेय ने जताया शोक, कहा- मेरे अभिभावक तुल्य थे
स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन पर शोक व्यक्त किया है। अपनी संवेदना प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि उनके निधन से राजनीतिक जगत में अपूरणीय क्षति हुई है, जिसकी भरपाई निकट भविष्य में मुश्किल है। उनका जाना देश के लिए गहरा धक्का है। उनसे मेरा गहरा लगाव था और मेरे अभिभावक तुल्य थेI पांच दशक से भी अधिक समय तक संसदीय राजनीति में उनके संघर्ष को भुलाया नहीं जा सकता है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को चिर शांति और दुख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवार को सहन शक्ति प्रदान करें।

तेजस्वी यादव ने कहा- हम सब मर्माहत और अत्यंत दुखी हैं
बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि वे देश के स्थापित राजनेता थे। उनके निधन के समाचार को जानकर हम सब अत्यंत दुखी और मर्माहत हैं। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि उनका संबंध हमारे परिवार से बहुत गहरा और निकट का था। वे हम सब के अभिभावक समान थे। उनके निधन से सामाजिक और राजनीतिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई है। ईश्वर उनकी आत्मा को चिर शांति दे। परिजनों और शुभचिन्तकों को इस शोक की घड़ी मे शोक सहन की शक्ति दे।

राबड़ी देवी ने कहा- आज हमारे घर में चूल्हा नहीं जलेगा
पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने ट्वीट में कहा, 'आदरणीय रामविलास पासवान के निधन से बहुत दुःखी हूं। दशकों से उनके साथ पारिवारिक सम्बंध रहा। आज हमारे घर में चूल्हा नहीं जलेगा। भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जताया शोक
गिरिराज सिंह ने कहा कि भारतीय राजनीति के पुरोधा और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन की सूचना मिली है। ऐसे सामाजिक योद्धा का देहांत भारतीय राजनीति के लिए अपूरणीय क्षति है। महादेव उनकी आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें।

फडणवीस बोले- एक मानवतावादी नेता हमने खोया
केन्द्रीय मंत्री राम विलास पासवान के आकस्मिक निधन पर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बिहार में बीजेपी के चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस ने गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि रामविलास पासवान के निधन से एक मानवतावादी नेता हमने खोया है। गरीब, वंचितों के लिए उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा। अपनी शोक संवेदना व्यक्त करते हुए देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि, रामविलास पासवान के निधन के बारे में जानकर अत्यंत दुख हुआ। कई दशकों तक उन्होंने जनता के दिल पर राज किया। बिहार की राजनीति को बदलने वाले वो नेता थे। करीब 9 बार उन्होंने संसद में प्रतिनिधित्व किया। अत्यंत विनम्र, सरल और हमेशा लोगों की मदद करने के लिए वे सदा तत्पर रहते थे। महाराष्ट्र से जुड़े कई मुद्दों को लेकर हमेशा उनसे मेरी मुलाक़ात होती रही, हर बार वे बेहद सकारात्मक रूप से मिलते। गरीबों और वंचितों के उत्थान के लिए उनका संघर्ष हमेशा याद किया जाएगा। इस महान नेता को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। मैं उनके परिवार और लाखों कार्यकर्ताओं के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं।

रविशंकर प्रसाद ने कहा- समाजवादी आंदोलन के प्रखर नेता थे पासवान
बीजेपी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट के जरिए केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान के निधन पर अपनी असीम संवेदना और श्रद्धांजलि प्रकट की। उन्होंने कहा कि रामविलास पासवान देश के समाजवादी आंदोलन के एक प्रखर नेता थे और उन्होंने अपना सारा जीवन दलितों और उपेक्षितों के कल्याण में लगाया। राम विलास जी भारत सरकार में वरिष्ठ मंत्री रहे। मैं अटल जी की सरकार में पहली बार उन्हीं के साथ कोयला खान राज्य मंत्री था। उनका निधन देश के लिए अपूरणीय क्षति है। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

संजय जायसवाल ने कहा- भारतीय राजनीति के एक युग का अवसान
बिहार बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय जायसवाल ने कहा कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के देहावसान की खबर हृदय को भेदने वाली है। उनका निधन भारतीय राजनीति के एक युग का अवसान है। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों मे स्थान दें। ॐ शांति!!

रामविलास पासवान ने हमेशा वंचितों-पीड़ितों के हक की लड़ाई लड़ी : रघुवर दास
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के दिग्गज नेता रघुवर दास ने रामविलास पासवान के निधन पर शोक जतया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, 'केंद्रीय मंत्री और जननेता रामविलास पासवान के निधन से मर्माहत हूं। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे और उनके परिजनों को यह पीड़ा सहने की शक्ति दे। उन्होंने हमेशा वंचितों-पीड़ितों के हक की लड़ाई लड़ी। उनका जाना भारतीय राजनीति के लिए बड़ी क्षति है। उनके निधन से भारतीय राजनीतिक में जो शून्यता आई है, उसकी भरपाई संभव नहीं है। उनका झारखंड से विशेष लगाव था। झारखंड में हमारी सरकार के दौरान केंद्र में उन्होंने अपने मंत्रालय की हर योजना का लाभ झारखंड को उपलब्ध कराने में व्यक्तिगत रूचि दिखाई। कोरोना काल में रामविलास पासवान ने "देश में कोई गरीब भूखा ना सोए" इस संवेदना के साथ कार्य किया।उनका जाना मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।'