गुजरात के 20 शहरों में लगा नाइट कर्फ्यू, शादी समारोह में शामिल हो सकेंगे केवल 100 लोग 

0
10

अहमदाबाद
 देश में एक बार फिर से कोरोना वायरस ने रफ्तार पकड़ी है। लोगों की लापरवाही के चलते फिर से कोरोना के मरीजों में इजाफा हुआ है। तेजी से बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने 30 अप्रैल तक र नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया है, तो वहीं गुजरात में भी कोराना कि स्थिति काफी बुरी हो गई है इसलिए राज्य सरकार ने यहां के 20 शहरों में आज से रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है, साथ ही लोगों को निर्देश दिए हैं कि वो कोरोना से बचने की गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें। गुजरात सरकार ने राज्य के सभी बड़े कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है और शादी समारोह में अब 100 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकते हैं। 

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने मीडिया से कहा कि बुधवार से रात 8 बजे से सुबह 6 बजे के बीच राज्य के 20 शहरों में रात का कर्फ्यू लगेगा और शादियों में 100 लोगों से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकते हैं और 30 अप्रैल तक राज्य में सभी कार्यालय शनिवार को बंद रहेंगे। गुजरात में कोरोना के 3,280 नए केस सामने आए मालूम हो कि हाईकोर्ट ने कहा था कि कोरोना की सीरीज तोड़ने के लिए 3-4 दिनों तक का कर्फ्यू या लॉकडाउन लगाया जा सकता है, जिसके बाद गुजरात सरकार ने अहमदाबाद, राजकोट, वडोदरा, सूरत, जूनागढ़, गांधीनगर, जामनगर, भावनगर, मेहसाणा, पाटन, आनंद, नाडियाड, मोरबी, गोधरा, भुज, भरूच, दाहोद, गांधीधाम, सुरेंद्रनगर और अमरेली में नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया है। मालूम हो कि बीते 24 घंटे में गुजरात में कोरोना के 3,280 नए केस सामने आए हैं, जो अब तक किसी एक दिन की सबसे अधिक संख्या हैं, अब राज्य में कुल एक्टिव केस 3,24,878 हो गए हैं।

 देश मे कोरोना के अब तक 96,982 नए केस तो वहीं पूरे देश मे कोरोना के अब तक 96,982 नए केस सामने आए हैं, जिसके बाद संक्रमितों की कुल संख्या 1,26,86,049 हो गई है तो वहीं 24 घंटे के अंदर कोरोना 446 लोगों ने दम तोड़ा है, जिसके बाद मौत का आंकड़ा 1,65,547 पहुंच गया है, तो वहीं देश में अब तक 8,31,10,926 लोगों को कोरोना का टीका लग चुका है। देश में कोरोना से 1.3 फीसदी मौतें हुई है केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में कोरोना के तेजी बढ़ते मामलों को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि राज्यों को कोरोना टेस्ट बढ़ाने की जरूरत है। कोरोना इस बार बीते साल के मुकाबले ज्यादा तेजी से फैल रहा है। ऐसे में अगले चार सप्ताह काफी अहम हैं, इसलिए सबको पूरे अनुशासन के साथ कोरोना की गाइडलाइंस को फॉलो करना जरूरी है।