क्षिप्रा नदी के पुल से नीचे गिरे बाइक सवार,एक की लाश मिली, एक लापता

0
2

इंदौर
रविवार शाम बाइक असंतुलित होने से बाइक सवार दो युवक और एक बच्ची क्षिप्रा नदी के पुराने पुल से नीचे गिर गए। बहाव काफी तेज होने से वे बहने लगे। यह देख कुछ दूर पहले ही बाइक से उतरे उनके साथी ने छलांग लगाकर मासूम को बचा लिया। वहीं, बाइक सवार दो युवकों को खुडैल पुलिस और एनडीआरएफ की टीम देर रात तक तलाशती रही। इसमें से सोमवार सुबह सर्चिंग के दौरान एक युवक की लाश मिली, जबकि दूसरे का कुछ पता नहीं चल पाया। बाइक सवार रिश्तेदारी से लौट रहे थे।

खुडैल टीआई रूपेश दुबे के अनुसार, हादसा रविवार शाम को सेम्ल्या चाऊ स्थित क्षिप्रा ब्रिज पर हुआ। यहां बाइक सवार चार लोग तीन साल की मासूम अमृता, 39 साल का रमेश, उसके दो साथी जगदीश और कालू हरनखेड़ी जा रहे थे। वे तीनों हरनखेड़ी में प्रवीण पाटीदार के खेत पर मजदूरी करते हैं। ये सभी बरोठा में अपने किसी रिश्तेदार के यहां मेहमानी करने गए थे। शाम को वहां से एक ही बाइक पर लौट रहे थे। तभी हादसा हुआ। इसमें से रमेश और 3 साल की मासूम की जान बच गई है, जबकि जगदीश और कालू लापता हो गए।

सुबह मिला जगदीश का शव
टीआई के अनुसार, जिस पुल से ये लोग निकल रहे थे, वह काफी जर्जर है। वहां से लोग पैदल बाइक लेकर निकलते हैं। घटना के वक्त सभी बाइक से पुल तक आए। वहां रमेश बाइक से उतर गया। बोला कि मैं पैदल आता हूं, तुम बाइक निकालो। वे थोड़ी आगे बढ़े ही थे कि अचानक असंतुलित होकर बाइक क्षिप्रा नदी में जा गिरी। नदी में बाइक समेत जगदीश, कालू और 3 साल की मासूम जा गिरी।

रमेश का कहना है कि बाइक गिरते देखकर उसने भी पीछे से छलांग लगा दी। नदी में उसने कूदकर मासूम को पकड़ लिया और किनारे पर ले आया। उसे लगा कि साथी भी बच जाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बहाव तेज होने से वे दोनों बह गए। फिर रमेश ने लोगों से मदद मांगी। आखिर लोगों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर एनडीआरएफ और खुडैल थाने की पुलिस पहुंची। देर रात करीब 10 बजे तक सर्चिंग चली, इसके बाद टीम ने फिर से सुबह सर्चिंग की तो जगदीश का शव उन्हें मिला, जबकि कालू की तलाश की जा रही है।