कोविड टेस्ट के नाम पर मनमानी वसूली, निजी अस्पतालों में बिना सुरक्षा साधनों के उपचार

0
4

भोपाल
राजधानी के कई निजी अस्पतालों को कोरोना मरीजों के इलाज करने की मंजूरी मिलने के बाद मरीजों के साथ लूटमार शुरू हो गई है। अधिकांश निजी अस्पतालों में बिना पर्याप्त सुरक्षा साधनों के आम और कोरोना मरीजों का उपचार किया जा रहा है। कोविड टेस्ट से लेकर मरीजों के ट्रांसपोर्टेशन और ट्रीटमेंट में मरीजों के परिजनों से जमकर वसूली हो रही है। ये बात अफसरों और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के निरीक्षण में सामने आई है।  250 से ज्यादा निजी अस्पताल और नर्सिंग इलाज से जुडेÞ हैं लेकिन अधिकतर में कोरोना मरीजों के आने जाने के लिए एक ही गेट है।  अस्पताल मौजूदा रेट से अधिकतम 40 फीसदी रेट ही बढ़ा सकता हैं, लेकिन अधिकतर एक दिन के 40 से 50 हजार रुपए तक वसूले जा रहे हैं।

ेस्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार शहर में 60 निजी अस्पताल आयुष्मान योजना के अंतर्गत इलाज करने के लिए इम्पैनल हैं। इनमें आरोग्य निधि अस्पताल में 30, एबीएम हॉस्पिटल में 40, अक्षर हॉस्पिटल में 40, अनंत श्री हॉस्पिटल में 25, अपेक्स हॉस्पिटल में 50, आराधना मेटरनिटी हॉस्पिटल में 30, आर्य ट्रॉमा हॉस्पिटल में 30, बालाजी फ्रेक्चर एंड जनरल हॉस्पिटल में 35, भोपाल केयर हॉस्पिटल में 40, भोपाल मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में 55, केयर इंफिनिटी हॉस्पिटल में 20, केयर मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में 20, कैरियर इंस्टिट्यूट आॅफ मेडिकल साइंस में 100,  केयरवेल मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में 30, सेंट्रल हॉस्पिटल में 30, दीपशिखा हॉस्पिटल में 21, ग्रीन सिटी हॉस्पिटल में 50, गुरु आशीष अस्पताल में 30, जवाहरलाल नेहरू कैंसर अस्पताल में 100,  ललित गीतांजलि हॉस्पिटल में 15, एलबीएस हॉस्पिटल में 100, लीलावती मेमोरियल हॉस्पिटल में 20, महावीर इंस्टिट्यूट आॅफ मेडिकल साइंस में 300, महेश्वरी हॉस्पिटल में 30, मैक्स केयर चिल्ड्रन हॉस्पिटल में 30, मेयो हॉस्पिटल में 100, मिरेकल हॉस्पिटल में 30, मोना हॉस्पिटल में 30, माउंट हॉस्पिटल में 30, नागपुर हॉस्पिटल में 30, नवजीवन हॉस्पिटल में 35, निर्मय हॉस्पिटल में 55, नोबल अस्पताल में 110,  ओम हॉस्पिटल में 40, आॅर्थो केयर अस्पताल में 15, पालीवाल अस्पताल में 60, पीपुल्स जनरल हॉस्पिटल में 50, पुष्पांजलि सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल में 50, आरआर हॉस्पिटल में 15 आदि।

यही नहीं कोविड टेस्ट के नाम पर अभी भी तीन से चार हजार रुपए तक वसूले जा रहे हैं। सरकार ने आरटी-पीसीआर से कोविड टेस्ट के लिए 1200 और एंटीजन के लिए 900 रुपए निर्धारित किए हैं। आउटडोर सर्विस के तौर पर सरकार ने 200 रुपए अतिरिक्त निर्धारित किए हैं। जबकि निजी अस्पतालों और लैब के कर्मचारी एक से डेढ़ हजार तक वसूल रहे हैं। आदेश निकालने के बाद अधिकारी इन मामलों पर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।