कोरोना : चीन की नई वैक्सीन का अच्छा रिस्पॉन्स, चीन की क्लीनिकल ट्रायल के आखिरी स्टेज पर चार और वैक्सीन

0
1

ताइवान
चीन की एक नई कोरोना वायरस वैक्सीन का एंटीबॉडी पर अच्छा रिस्पॉन्स देखने को मिला है. 'दि लैंसेट इंफेक्शियस डिसीज जर्नल' में इसकी एक रिपोर्ट भी प्रकाशित हुई है. वैक्सीन का ये रिजल्ट एक छोटे क्लीनिकल ट्रायल के शुरुआती चरण का हिस्सा था, जो निष्क्रिय किए गए सभी SARS-CoV-2 वायरस पर आधारित है.

इस वैक्सीन कैंडिडेट का ट्रायल चीन में 29 अप्रैल से 30 जुलाई के बीच कंडक्ट किया गया था. वैक्सीन की स्टडी में 'बीजिंग इंस्टिट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स' समेत कई बड़े संस्थानों के शोधकर्ताओं ने हिस्सा लिया था. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, शुरुआत स्टेज के ट्रायल में हिस्सा लेने वाले सभी 42 वॉलंटियर्स में एंटीबॉडी का काफी अच्छा रिस्पॉन्स देखा गया है.

दि लैंसेट इंफेक्शियस डिसीज जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि ये वैक्सीन ना सिर्फ प्रभावशाली है, बल्कि पूरे ट्रायल के दौरान अभी तक किसी वॉलंटियर में इसके घातक साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिले हैं. इस वैक्सीन ट्रायल में 18 साल से लेकर 80 साल की उम्र के 600 से ज्यादा वॉलंटियर्स को शामिल किया गया था.

एक्सपर्ट्स ने बताया कि ट्रायल के शुरुआती स्टेज का उद्देश्य वैक्सीन की सुरक्षा और इम्यून पर इसके रिस्पॉन्स की जांच करना है. हालांकि ये वैक्सीन कोविड-19 से मरीज को बचाने के लिए पर्याप्त है, इस बारे में अभी स्पष्ट नहीं कहा जा सकता है. शोधकर्ताओं के मुताबिक, क्लीनिकल ट्रायल के शुरुआती स्टेज पर मिले ये आंकड़े तीसरे चरण के ट्रायल में बेहद उपयोगी साबित होंगे.

बता दें कि चीन की क्लीनिकल ट्रायल के आखिरी स्टेज पर चार और वैक्सीन हैं. इनमें से तीन वैक्सीन तो जुलाई में शुरू हुए आपातकालीन कार्यक्रम के तहत जरूरतमंद वर्कर्स के लिए उपलब्ध करा दिए गए हैं. WHO द्वारा जारी डेटा के मुताबिक, क्लीनिकल ट्रायल में लगभग 40 से ज्यादा वैक्सीन पर परीक्षण जारी है.