कोरोना के कारण 5 अक्टूबर तक छात्रों के लिए बंद रहेंगे स्कूल : दिल्ली सरकार

0
2

नई दिल्ली 
राजधानी दिल्ली में फिर बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के मद्देजनर दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को एक आदेश जारी कर सभी स्कूल छात्रों के लिए 5 अक्टूबर तक बंद रखने का निर्णय लिया है। जानकारी के अनुसार, इससे पहले दिल्ली सरकार ने इस माह की शुरुआत में ही एक सर्कुलर जारी कर राजधानी के सभी स्कूल 30 सितंबर तक बंद रखने का आदेश दिया था। सर्कुलर में कहा गया था कि गृहमंत्रालय की ओर से 29 अगस्त को अनलॉक-4 के लिए जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी सहायता प्राप्त या गैर सहायता प्राप्त प्राइवेट स्कूल जो शिक्षा निेदेशायलय अन्य स्थानीय निकायों (एमसीडी, एनडीएमसी और दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड) द्वारा मान्यता प्राप्त हैं उन्हें निम्नलिखित निर्देश दिए जाते हैं – 

1- सभी स्कूल सभी छात्रों के लिए 30 सितंबर 2020 तक बंद रहेंगे।
2- ऑनलाइन शिक्षा/दूरस्थ शिक्षा को जारी रखने की अनुमति दी जा सकती है। यह जारी रहेगी।

3- कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए किसी भी छात्र को 20 सितंबर तक स्कूल आने की अनुमति नहीं दी जा सकती। हालांकि कक्षा 9 से 12वीं तक के छात्र किसी भी काम के लिए स्कूल जा सकते हैं। 21 सितंबर से इन छात्रों के लिए अपने पैंरेंट्स से लिखित में अनुमति लेना होगा। इसके बाद ही वे स्कूल जा सकते हैं।

4- पूर्व की भांति ऑनलाइन क्लासेस व अन्य एक्टिविटी जारी रहेंगी।

5- यह भी सुनिश्चत किया जाए कि स्कूलों का स्टाफ बिनाप पूर्व स्वीकृति के स्टेशन से बाहर न जाएं। जिससे कि किसी भी वक्त ड्यूटी के लिए बुलाया जा सके।

गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए स्कूल खुलने जा रहे हैं। केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार 21 सितंबर से कंटेनमेंट जोन के बाहर स्थित स्कूलों में नौवीं कक्षा से 12वीं कक्षा तक के छात्रों को अपने शिक्षकों से मार्गदर्शन लेने के लिए स्कूल जाने की अनुमति दी जा सकती है। स्टूडेंट्स अपने पैरेंट्स से लिखित अनुमति लेने के बाद ही शिक्षकों से गाइडेंस लेने के लिए स्कूल आ सकेंगे। इस दौरान स्कूलों को स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी की गई कोरोना संक्रमण से बचाव संबंधी गाइडलाइंस का पालन करना होगा। कई राज्यों ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्कूल न खोलने का फैसला लिया है, जबकि कुछ राज्यों ने पढ़ाई के हो रहे नुकसान और 2021 की बोर्ड परीक्षाओं को ध्यान में रखकर 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए स्कूल खोलने की इजाजत दे दी है। कुछ सरकारें अभी इसको लेकर असमंजस में दिख रही हैं।