कुंभ मेले को लेकर कांग्रेस नेता उदित राज का विवादित बयान

0
3

नई दिल्ली
कांग्रेस नेता उदित राज अपने विवादित बयान को लेकर फिर चर्चा में हैं। उदित राज ने कुंभ मेले के आयोजन में सरकारी फंड के इस्तेमाल पर सवाल उठाए हैं। मदरसा और कुंभ की तुलना करते हुए उदित राज ने ट्वीट करके कहा, 'असम सरकार ने सरकारी फंड से मदरसे न चलाने का निर्णय किया है उसी तरह यूपी सरकार को कुंभ मेले के आयोजन पर 4200 करोड़ रुपये नहीं खर्च करने चाहिए।' इस पर संत समाज ने उदित राज पर जोरदार हमला बोला है। संतों ने इसे कांग्रेस की हिन्दू विरोध सोच का प्रतीक बताया है।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज ने कांग्रेस नेता उदित राज के बयान की कड़े शब्दों में निंदा की है। स्वामी चक्रपाणि महाराज ने कहा कि उदित राज का बयान कांग्रेस की हिन्दू विरोधी, सनातन विरोध सोच का प्रतीक है और उसी का परिणाम है। जैसा शीर्ष नेता होते हैं वैसा ही मूल होता है।

'संत की हत्या पर प्रतिक्रिया नहीं देती कांग्रेस'
स्वामी चक्रपाणि महाराज ने कहा कि कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व वर्तमान काल में हिन्दू विरोधी हो चुका है। अगर देश में कहीं किसी संत की हत्या होती है तो उस पर कांग्रेस की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं की जाती है।

उदित राज के बयान पर हंगामा क्यों?
दरअसल कांग्रेस नेता उदित राज ने कुंभ मेले के आयोजन में सरकारी पैसे के इस्तेमाल पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने मदरसा और कुंभ की तुलना करते हुए गुरुवार को ट्वीट करके कहा कि असम सरकार ने सरकारी फंड से मदरसे न चलाने का निर्णय किया है उसी तरह यूपी सरकार को कुंभ मेले के आयोजन पर 4200 करोड़ रुप नहीं खर्च करने चाहिए। हालांकि विवाद बढ़ने पर उदित राज ने वह ट्वीट डिलीट कर दिया।

उदित राज ने दी ये सफाई
कांग्रेस नेता उदित राज ने हमारे सहयोगी चैनल टाइम्स नाऊ से बातचीत में सफाई देते हुए कहा, 'राज्य का कोई धर्म नहीं होता। सभी को बराबर मानना चाहिए। किसी के साथ भेदभाव नहीं होना चाहिए। इस संदर्भ में मैंने कुंभ मेले के खर्च का उदाहरण दिया'। उधर, कांग्रेस ने उदित राज के बयान से किनारा कर लिया है।

संबित पात्रा ने उदित राज के बयान को गांधी परिवार की सच्चाई बताया
उदित राज के विवादित ट्वीट के जवाब में बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, 'मित्रों ये है गांधी परिवार की सच्चाई। पहले अफिडेविट देकर सुप्रीम कोर्ट में कहा था 'भगवान श्री राम मात्र काल्पनिक है..उनका कोई अस्तित्व नहीं' और अब प्रियंका वाड्रा जी का कहना है की कुंभ मेला भी बंद होना चाहिए! तभी तो दुनिया कहती है राहुल और प्रियंका 'सुविधा-वादी' हिंदू है'।