किसानों को राहत सहयोग और प्रोत्साहन निरंतर जारी रहेगा : मुख्यमंत्री चौहान

0
1

भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कृषि को लाभ का धंधा बनाकर किसानों की जिन्दगी बदलने और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की दिशा में मध्यप्रदेश सरकार निरंतर सक्रिय है। किसानों को राहत, सहयोग और प्रोत्साहन लगातार जारी रहेगा। कोरोना के कारण आर्थिक संकट जरूर है पर जरूरत होने पर किसान को सहयोग करना पड़ा तो उधार लेकर भी राहत पहुंचायी जाएगी। किसानों का सुरक्षा कवच बना रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि फसल बीमा योजना को और अधिक कृषक हितैषी व सुलभ बनाने के लिए इसका संचालन राज्य शासन की कंपनी से कराने और विभिन्न अनुदान की राशि सीधे किसान के खाते में जारी करने के संबंध में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से चर्चा करेंगे।

आप किसानों के लिए ऐसे ही काम करते रहें

मुख्यमंत्री चौहान ने भोपाल के ग्राम परवलिया सड़क निवासी कृषक राधेश्याम मेहर से गांव में चल रही शासकीय योजनाओं की जानकारी ली। मेहर ने बताया कि किसानों को कठिन समय में इस नई योजना से बहुत फायदा होगा। कृषि बिलों के संबंध में बात करने पर मेहर ने कहा कि जब मंडी और समर्थन मूल्य बंद नहीं हो रहा तो बिल में दिक्कत क्या है। मंडी से ज्यादा दाम कहीं और मिलता है तो किसान अपनी उपज वहां बेचे यह तो सही व्यवस्था है। मेहर ने मुख्यमंत्री चौहान से कहा कि आप किसानों के लिए ऐसे ही काम करते रहें। मुख्यमंत्री चौहान ने परवलिया सड़क के कृषक भवन सिंह राजपूत से भी बातचीत की।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मिंटो हाल में किसानों को संबोधित कर रहे थे। चौहान ने इस अवसर पर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत मौसम आधारित उद्यानिकी फसल बीमा योजना के बीमा दावा राशि के 100 करोड़ रुपए 1 लाख 72 हजार किसानों के खाते में सिंगल क्लिक द्वारा अंतरित किए। मुख्यमंत्री किसान कल्याण निधि के अंतर्गत 1 लाख 75 हजार किसानों के खाते में दो-दो हजार रुपये की राशि सिंगल क्लिक से अंतरित की गई। शुक्रवार को 5 लाख 70 हजार 298 किसानों को यह राशि जारी की गई थी। प्रदेश के 77 लाख किसानों को मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना का लाभ दिया जाना है। राशि अंतरण की प्रक्रिया सतत् जारी रहेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को प्रति वर्ष 6 हजार रुपये प्रति किसान प्रदान किये जाते हैं। इसके साथ ही राज्य सरकार की ओर से अब प्रति वर्ष दो किश्तों में दो-दो हजार रुपये की सम्मान-निधि किसानों को उपलब्ध करायी जाएगी। इस प्रकार मध्यप्रदेश किसान सम्मान-निधि में प्रति वर्ष किसानों को 10 हजार रुपये प्राप्त होंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने किसानों को जमीनों की जानकारी सरलतापूर्वक उपलब्ध कराने के लिए राजस्व विभाग द्वारा बनाये गए 'सीमांक ऐप' का लोकार्पण भी किया।

प्रधानमंत्री मोदी किसान कल्याण के लिए समर्पित

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्र सरकार द्वारा लाये गए कृषि बिलों के प्रावधानों पर कृषकों से विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसान कल्याण के लिए समर्पित हैं। किसानों को हरसंभव सहायता और आगे बढ़ने के मौके उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने किसानों को फसल बेचने के लिए मंडी के साथ-साथ उपलब्ध कराये जा रहे अन्य विकल्पों, कृषि के क्षेत्र में अधोसंरचना विकास तथा अन्य प्रावधानों पर संवाद भी किया।

एक जिला – एक उत्पाद योजना

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रदेश के जिलों में हो रही फल और सब्जी की पहचान स्थापित करने के लिए 7 हजार 500 करोड़ रुपये उपलब्ध करायें हैं। 'एक जिला-एक उत्पाद योजना' के तहत जिलों के मुख्य कृषि उत्पाद को बेहतर बनाने के लिए कदम उठाए जाएंगे। मध्यप्रदेश आत्मनिर्भर कृषि मिशन के अंतर्गत इन फसलों की गुणवत्ता सुधार, सोर्टिंग, ग्रेडिंग, पैकिंग आदि कर इस प्रकार वैल्यू एडिशन किया जाएगा, जिससे विदेशों में भी प्रदेश के कृषि उत्पादों की मांग बढ़े। जिलों में एक्सपोर्ट कलस्टर भी स्थापित किए जाएंगे। इस मिशन के अंतर्गत कृषि अधोसंरचना के लिए कम ब्याज पर ऋण उपलब्ध होगा। यह ऋण किसानों, कृषकों के उत्पादक संघों और कृषक सहकारी संघों को ही प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध कराया जाएगा।

खेतों में चेन फेंसिंग व्यवस्था आवश्यक : मंत्री कुशवाह

उद्यानिक एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)भारत सिंह कुशवाह ने मुख्यमंत्री चौहान का स्वागत करते हुए कहा कि किसान पुत्र चौहान कृषकों की वास्तविक परिस्थतियों से भलीभांति परिचित हैं। इनकी सक्रियता और संवेदनशीलता का ही परिणाम है कि वे कोरोना के कठिन काल में समाज के हर वर्ग और व्यक्ति के साथ खड़े नजर आए। मंत्री कुशवाह ने किसानों की फसलों को आवारा पशुओं और जंगली जानवरों से बचाने के लिए खेतों में चैन फेंसिंग की व्यवस्था के संबंध में पहल करने का आग्रह किया।

किसान कल्याण योजना पर 3200 करोड़ का व्यय अनुमानित : मंत्री गोविंद सिंह राजपूत

राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कंहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने किसानो को सहृदयतापूर्वक जो सहयोग किया है वह एक मिसाल है। मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना पर 32 सौ करोड़ रुपये का व्यय अनुमानित है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल शहडोल और देवास के किसानों से बातचीत की।

अब लोन की जरूरत नहीं रहेगी

शहडोल के ग्राम गोडारु के किसान अरुण पाल सिंह गौंड ने मुख्यमंत्री चौहान से कहा कि जरूरत पड़ने पर अब तक तो सहकारी बैंक से जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण ले लेते थे पर अब मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना में राशि मिलने से अब लोन की जरूरत ही नहीं रहेगी। इस पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किसान के जीवन में चार हजार रुपये भी बहुत महत्व रखते हैं। उन्होंने अरुण पाल से खसरा-खतौनी की नकल के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि लोकसेवा केन्द्र से यह आसानी से मिल जाती है। मुख्यमंत्री ने उनकी खेती, बच्चों की पढ़ाई, ग्राम में संचालित योजनाओं की जानकारी भी ली। मुख्यमंत्री चौहान ने देवास के उद्यानिकी कृषक दांगी से भी बात की।

कार्यक्रम का आरंभ मध्यप्रदेश गान के साथ हुआ। प्रदेश के सभी जिलों में वेबकॉस्ट, यू-ट्यूब तथा फेसबुक के माध्यम से कृषक गण बड़ी संख्या में कार्यक्रम से जुड़े। कार्यक्रम का प्रसारण दूरदर्शन सहित सभी प्रमुख प्रादेशिक चैनलों पर किया गया। प्रमुख सचिव उद्यानिकी श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव ने आभार व्यक्त किया।