कांग्रेस-भाजपा दोनों शराबबंदी के पक्ष में नहीं : रिजवी

0
2

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख तथा वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार को उनके ही संकल्प पत्र में शराबबंदी का वादा याद दिलाते हुए कहा है कि कांग्रेस पार्टी के संविधान में शराब का सेवन करने वाला व्यक्ति पार्टी का सदस्य नहीं बन सकता है परन्तु प्राय: देखा जा रहा है कि कांग्रेस सहित लगभग सभी राजनैतिक दलों में पीना आम बात है। पिछले सम्पन्न आम चुनाव के समय के कांग्रेसी घोषणा पत्र में अन्य वादों के साथ-साथ शराबबंदी का प्रमुख रूप से कांग्रेस पार्टी ने वादा किया था परन्तु शराब विक्रय से होने वाली प्राप्त करोड़ो की चकाचौंध करने वाली आय ने कांग्रेस को उनका वादा भुला दिया तथा कांग्रेस अपने किये गये वादों को बचाने के लिये तरह-तरह के बहाने ढूंढती नजर आ रही है। शराबबंदी की आस लगाई बैठी जनता खासकर जिसमें सबसे ज्यादा पीड़ित एवं प्रताड़ित महिला वर्ग अपने आपको ठगा सा महसूस कर रही है।

रिजवी ने कहा है कि आगामी विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ की जनता कांग्रेस एवं भाजपा से ठगी जाने के बाद दोनों प्रमुख दलों को दरकिनार कर जकांछ सरकार बनाने की दिशा में गंभीर हो चुकी है तथा अगला मुख्यमंत्री जोगी परिवार से बनाकर स्व. अजीत जोगी के अथक प्रयास से मान्यता प्राप्त जकांछ को सत्ता सौपने का मन बना चुकी है। शराबबंदी के मुद्दे पर कांग्रेस एवं भाजपा दोनों ने प्रदेश की जनता को छला है इसलिए अब जनता के समक्ष केवल जोगी कांग्रेस का ही विकल्प शेष है और जकांछ अपनी पार्टी के दिवंगत नेता स्व. अजीत जोगी के शपथ पत्र पर कायम है और आगे भी कायम रहने हेतु शपथ लेती है।