देवगंगा मंदाकिनी में लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

0
149
Thousands of pilgrims dip in Devganga Mandakini

चिलचिलाती धूप नहीं डिगा सकी आस्था

भगवान कामतानाथ में मत्था टेक लगायी कामदगिरि की परिक्रमा

sukhendra agrahari
चित्रकूट। भाद्रपद सोमवती अमावस्या में लाखों श्रद्धालुओं ने देवगंगा मंदाकिनी में डुबकी लगाने के बाद मत्यगजेन्द्रनाथ का जलाभिषेक किया। तत्पश्चात कामदगिरि की प्रदक्षिणा की। विभिन्न धार्मिक स्थानों के दर्शन किये। तीर्थक्षेत्र में श्रद्धालुओं की सुविधा के मद्देनजर प्रशासन के पुख्ता इंतजाम के चलते सकुशल मेला संपन्न हुआ।

Thousands of pilgrims dip in Devganga Mandakiniभादौ मास की सोमवती अमावस्या पर्व में विभिन्न प्रांतों से लाखों श्रद्धालुओं ने चित्रकूट स्थित रामघाट पहुंचकर देवगंगा मंदाकिनी में डुबकी लगाकर मत्यगजेन्द्रनाथ शंकर भगवान को जलाभिषेक करने के बाद कामदगिरि की परिक्रमा की। उमसभरी गर्मी व चिलचिलाती धूप भी आस्थावानों की आस्था नहीं डिगा सकी। मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं का रेला दो दिन पूर्व से ही एकत्र होने लगा था। भजन-कीर्तन की धुन व श्रीराम के जयकारों के बीच लाखों श्रद्धालुओं ने भगवान की कामदनाथ की परिक्रमा लगाई। इसके अलावा हजारों श्रद्धालुओं ने लेटी परिक्रमा लगाकर मन्नते पूरी की।

Thousands of pilgrims dip in Devganga Mandakiniश्रद्धालुओं ने मेला क्षेत्र के गुप्त गोदावरी, अनुसुइया आश्रम, स्फटिक शिला, प्रमोद वन, देवांगना, पम्पापुर, हनुमानधारा आदि विभिन्न तीर्थ स्थलों का भ्रमण किया। इस दौरान श्रद्धालुओं ने यथाशक्ति दान दिया। आस्थावानों के आवागमन के लिये रेल प्रशासन ने मेला स्पेशल ट्रेने चलाई थी। परिवहन निगम ने मेला क्षेत्र में पहुंचने के लिये अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की थी। बावजूद इसके यात्रियों का खचाखच भरी ट्रेनों का सहारा लेना पड़ा। कर्वी रेलवे स्टेशन से चित्रकूट जाने के लिये केवल टैम्पों व आपे का सहारा रहा। टैम्पो चालक सड़कों पर दिनभर सवारियां ढोते नजर आये। सवारियों से मनमानी किराया भी वसूले गये। भादौ मास की अमावस्या में आस्थावानों ने विभिन्न धार्मिक स्थलों का भ्रमण किया। आस्थावान टैªक्टरों व निजी चार पहिया वाहनो, साइकिल व पैदलं धर्मनगरी पहुंचे। वापस रेलवे स्टेशन परिसर में भारी भीड़ रही। कामतानाथ के जयकारों के साथ आस्थावान गंतव्य की ओर रवाना हुये। मेला सकुशल संपन्न कराने को जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन की सतर्क नजर रही। चप्पे-चप्पे पर पुलिस व प्रशासन ने भीड़ को काबू में करने व किसी प्रकार की अनहोनी से निपटने के लिये पहले से इंतजाम कर लिये थे। जिसके चलते मेला सकुशल संपन्न हुआ।

Thousands of pilgrims dip in Devganga Mandakiniआईजी-डीआईजी समेत प्रशासनिक अधिकारी मेला का लेते रहे जायजा
चित्रकूट। जिलाधिकारी शिवाकांत द्विवेदी व पुलिस अधीक्षक प्रताप गोपेन्द्र लगातार मेला क्षेत्र का भ्रमण कर आवश्यक दिशा निर्देश देते रहे। पूर्वान्ह से रामघाट जाकर मेला व्यवस्थाओं का जायजा लिया। ड्युटी पर लगे जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रटों से मेले की समस्याओं के बारे में जानकारी की। इस पर अधिकारियों ने शांतिपूर्वक मेला चलने की जानकारी दी।
मण्डलायुक्त अजय कुमार शुक्ला व डीआईजी ज्ञानेश्वर तिवारी ने मेला के मद्देनजर चित्रकूट आकर मेला क्षेत्र का भ्रमण कर जायजा लिया। इसके पूर्व सोमवती भदई अमावस्या पर्व को सकुशल संपन्न कराने के लिये जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने मेला क्षेत्र का भ्रमण कर भीड के बारे में जानकारी कीे। ड्यूटी में तैनात अधिकारियों व कर्मचारियों से श्रद्धालुओं की सुविधाओं के लिये समय-समय पर निर्देश दिये। उन्होंने रामघाट परिसर में पैदल चलकर साफ-सफाई को देखा। जिसमें साफ-सफाई संतोषजनक पायी गई। उन्होंने मेडिकल टीम द्वारा वितरित दवा पंजिका व खोयापाया केन्द्र की व्यवस्थायें देखी। इस दौरान मण्डलायुक्त व डीआईजी ने मेला क्षेत्र का पैदल भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने तैनात अधिकारियों व कर्मचारियों से मेला दौरान लापरवाही न बरतने की हिदायत दी।

Thousands of pilgrims dip in Devganga Mandakiniसमाजसेवियों ने श्रद्धालुओं को कराया जलपान
चित्रकूट। भदई अमावस्या पर्व पर समाजसेवियों ने श्रद्धालुओं की सुविधा के लिये स्टेशन परिसर, पटेल तिराहा, बस स्टैन्ड समेत तीर्थक्षेत्र के शिवरामपुर, भरतकूप, परिक्रमा मार्ग, बेडीपुलिया, घोडासी बस स्टैन्ड, सीतापुर, रामघाट आदि स्थानों पर प्याऊ व भण्डारे में भरपेट भोजन कराया। इसी क्रम में समाजसेवी सुभाष सोनी व विशाल मिश्रा की अगुवाई में पटेल तिराहे पर श्रद्धालुओं को जलपान कराया गया। इस मौके पर अमित गुप्ता, विष्णु अग्रहरि, अज्जू सोनी, विष्णु कुमाार, शिवम केसरवानी आदि मौजूद रहे।

महिलाओं ने पीपल वृक्ष के लगाये फेरे
चित्रकूट। सुहागिन महिलाओं ने सोमवती अमावस्या पर्व पर पीपल के वृक्ष पर धागा लपेट 108 फेरे लगाये। सवेरे से पूजन-अर्चन के लिये धान, पान, बतासा, सुपाडी, हल्दी, टाफी, बिस्किट आदि के 108 सामग्री लेकर पीपल वृक्ष का विधिविधान से पूजन-अर्चन करने के बाद 108 परिक्रमा लगाकर पति व पुत्र के दीर्घायु की कामना की।

धूलभरे निर्माणाधीन मार्ग से आवागमन में हुई दिक्कतें
चित्रकूट। बेडीपुलिया से सीतापुर व शिवरामपुर से सीतापुर तक निर्माणाधीन होने के चलते आवागमन में श्रद्धालुओं को भारी दिक्कते हुई। कर्वी से रामघाट पैदल जा रहे हजारों श्रद्धालुओं को धूलभरे गुबार से होकर गुजरना पडा। जबकि डीएम शिवाकांत द्विवेदी ने सडकों की मरम्मत के साथ निर्माणाधीन मार्गों में पानी का छिडकाव करने के निर्देश दिये थे। ताकि आवागमन में कोई दिक्कत न हो सके। इसके अलावा विभिन्न मार्गों में अन्ना पशु घूमते देखे गये।