All type of Newsभोपाल

पांच साल के रोडमैप के लिए किसानों से मांगे सुझाव

पांच साल के रोडमैप के लिए किसानों से मांगे सुझाव

भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि मैं पहले अपने मध्यप्रदेश परिवार का सदस्य हूँ, बाद में मुख्यमंत्री हूँ। जनता का दुख मेरा दुख है और जनता का सुख मेरा सुख है। मैं किसान, मजदूर, युवा, बेटी हो या बुजुर्ग, किसी की भी आंख में आंसू नहीं रहने दूंगा। यह सरकार किसानों के लिए जो कुछ भी कर सकती थी वह अभी तक किया गया है और किसान चौपालों के माध्यम से किसानों के द्वारा उनके कल्याण के लिए जो भी सुझाव दिए जायेंगे उन पर अमल करते हुए अगले पांच साल का रोडमैप हम बनाने जा रहे है। हम अन्नदाता को सही अर्थो में दाता के रूप में स्थापित करने का संकल्प पूरा करेंगे।

चौहान ने यह बात आज भोपाल के निकट ग्राम परवलिया सड़क में भाजपा किसान मोर्चा द्वारा आयोजित किसान चौपाल को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि मैं पिछले 13 सालों से एक भी दिन चैन से नहीं सोया हूँ। मुझे एक ही धुन सवार रहती है कि और अच्छा कैसे करूं। चौहान ने किसानों से कहा कि वे ईमानदारी से तुलना करें कि पिछली कांग्रेस की सरकारें राहत के नाम पर कैसे बर्ताव करती थी और आज की सरकार किस प्रकार राहत देती है। उन्होंने किसानों से पूछा कि आपको कितने प्रतिशत ब्याज पर ऋण मिलता था, किसानों ने जोरदार आवाज के साथ कहा 18 प्रतिशत। तब मुख्यमंत्री ने पुनः पूछा अब कितने प्रतिशत पर मिलता है तो सभी किसानों ने खड़े होकर कहा जीरो प्रतिशत पर। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के जमाने में किसानों को खाद के लिए डंडे खाने पड़ते थे और अब हमारी सरकार चार-चार महीने पहले ही किसानों को खाद उपलब्ध करा रही है। हमने संकल्प लिया है कि खेती को फायदे का धंधा बनाकर रहेंगे। इसलिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी आभार व्यक्त करना चाहता हूं जिन्होंने खरीफ की फसलों का लागत का डेढ गुना समर्थन मूल्य घोषित करके देश में एक नई कृषि क्रांति की शुरूआत की है। हमने इसी वर्ष में किसानों को अलग अलग प्रकार से 40 हजार करोड़ रूपए से अधिक की राशि वितरित की है। भविष्य में भी किसान की किसी भी फसल को कम कीमत पर नहीं बिकने दिया जायेगा क्योंकि किसान पसीना बहाकर फसलें उगाता है, इसलिए उसको उचित मूल्य देना कोई खैरात नहीं है। यह उसके पसीने की कीमत है।

चौहान ने उपस्थित किसानों से अपील की कि वे सरकार की योजनाएं बनाने में अपना योगदान प्रदान करें और उस योगदान के लिए यह किसान चौपालें श्रेष्ठ माध्यम है। किसान मोर्चा के माध्यम से जो भी सुझाव मिलेंगे उनका अध्ययन कर अगले पांच साल के रोड मैप में शामिल किया जायेगा। उन्होंने जोर देकर कहा कि जनता की तकलीफ दूर करे वही सरकार होती है, जो नहीं करे वह किस बात की सरकार। 

     इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने असंगठित श्रमिक कल्याण योजना संबल के तहत हितग्राहियों को बिजली की बिल माफी और अन्य प्रकार की लाभ के प्रमाण पत्र वितरित किए। साथ ही उन्नत कृषि करने वाले कृषक बंधुओं का शाल श्रीफल से स्वागत किया। कार्यक्रम को किसान मोर्चा के अध्यक्ष रणवीर सिंह रावत, विधायक विष्णु खत्री ने भी संबोधित किया।

    

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi