All type of NewsFeaturedजिले की खबरेभोपाल

…तो सेवा से वर्खास्त होंगे 19000 हडताली संविदा स्वास्थ्यकर्मी

एनएचएम ने जिलों में भेजे वर्खास्तगी आदेश

So get out of service 19000 cardinal contract health worker

भोपाल । चेतावनी के बाद भी काम पर न लौटने वाले संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को सरकार ने बड़ा झटका दिया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन( एनएचएम) ने प्रदेश के 19 हजार संविदा सेवकों को सेवा से हटाने का नोटिस जारी किया है। बाकायदा यह नोटिस जिला अस्पतालों में चस्पा भी कर दिए गए हैं।

So get out of service 19000 cardinal contract health workerपिछले करीब आधा माह से संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अस्पतालों में कामबंद कर बेमुद्दत हड़ताल कर रहे हैं। इधर प्रभावित होती स्वास्थ्य सेवाओं को ध्यान में एनएचएम ने यह कार्यवाही की है। हड़ताली संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को एनएचएम ने 12 मार्च तक काम पर लौटने का अल्टीमेटम दिया था। शाम तक जब कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं लौटे तो सरकार ने इन्हें र्बाास्त करने के आदेश जारी कर दिए। सरकार की इस कार्यवाही से गुस्साए कर्मचारियों ने टर्मिनेशन लेटर की सामूहिक रूप से होली जलाई और अपने आंदोलन को उग्र कर दिया। राजधानी भोपाल सहित कई जिलों में सीएमएचओ कार्यालय के समीप ही आदेशों की होली जलाई गई। मप्र संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष सौरभ सिंह चौहान ने कहा कि सरकार ने हमें नौकरी से बाहर कर दिया है। इसलिए अब हम ज्यादा आजाद हैं और अपना अधिकार पाने के लिए संघर्ष करेंगे। उन्होंने कहा कि यह तानाशाही है। सौराभ का कहना है कि मंगलवार को साभी जिलाध्यक्षों की बैठक है। इसमें आंदोलन को और तेज करने की रणनीति बनाई जाएगी।

हम करेंगे पूरा समर्थन:-
इस कार्यवाही को लेकर अन्य विाागों के संविदा सेवक एकजुट हुए हैं। सर्वशिक्षा अभायान संविदा इंजीनियर संघ के प्रांताध्यक्ष शरद वाजपेयी ने कहा कि यह कार्यवाही दर्शा रही है कि सरकार किस तरह कर्मचारियों की आवाज दबाना चाहती है। वहीं क्लास थ्री के बैनर तले गठित संविदा कर्मचारी संघ के प्रांतीय संयोजक इंजी. अजय तिवारी नेकहा कि संविदान में हक लेना सभी का अधिकार है। इस प्रकार की कार्यवाही निंदनीय है। संविदा स्वास्थ्य कर्मियों का पूरा समर्थन किया जाएगा।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi