जिले की खबरेशाजापुर

घटिया निर्माण देख कलेक्टर हुई नाराज

कलेक्टर ने उपयंत्री के दो वेतन वृद्धि रोकने के दिए निर्देश

Shoddy construction was a collector angry Shoddy construction was a collector angry Shoddy construction was a collector angryamjad khan
शाजापुर। जनपद पंचायत क्षेत्र के ग्राम मोरटा, निछमा, निपानिया डाबी, रिछोदा एवं लड़ावद का कलेक्टर श्रीमती अलका श्रीवास्तव ने बुधवार को भ्रमण कर शासन की विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन की मैदानी स्थिति जानी। ग्राम निछमा में आंगनवाड़ी भवन निर्माण में घटिया सामग्री उपयोग करने पर कलेक्टर ने नाराज होते हुए सुपरविजन के लिए नियुक्त उपयंत्री डी.एस. गोहिल की दो वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिए। साथ ही कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा दिनेश मगरिया को कार्यों का निरीक्षण नहीं करने के लिए फटकार लगाई। साथ ही उन्हें निर्देश दिए कि जिले भर के विभागीय निर्माण कार्यों की जांचकर एक सप्ताह में रिपोर्ट दें।
भ्रमण के दौरान कलेक्टर ने ग्राम मोरटा में आंगनवाड़ी केन्द्र क्रमांक दो का निरीक्षण किया। निरीक्षण में उन्होंने कार्यकर्ता से दुध बनाने की विधि पूछी। उन्होंने निर्देश दिए कि आंगनवाड़ी में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए। बच्चों को एकदम पतला दुध नहीं पिलाएं। दुध बनाने के लिए सही मात्रा में दुध पाऊडर एवं पानी मिलाये। आंगनवाड़ी केन्द्र में पर्याप्त संख्या में बर्तनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सुपरवाईजर को निर्देश दिए। इस मौके पर उन्होंने स्टॉक पंजी का भी निरीक्षण किया। मोरटा में उन्होंने प्राथमिक शाला का भी निरीक्षण किया। यहां अनुपस्थित शिक्षक शंकरलाल मालवीय एवं नारायण मालवीय के एक-एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए। किचन शेड की पुताई एवं मरम्मत करने के लिए सरपंच से कहा। आंगनवाड़ी केन्द्र क्रमांक 2 भवन निर्माण पूर्ण कराने के लिए जिला पंचायत सीईओ को द्वितीय किस्त प्रदान करने के निर्देश दिए। इस मौके पर उन्होंने उचित मूल्य की दुकान का भी निरीक्षण किया। ग्राम पंचायत भवन में एकत्रित मोरटा के ग्रामीणों से कलेक्टर ने कहा कि वे अपने बच्चों को नियमित रूप से विद्यालय भेंजे। जिन लोगों के नामांतरण आदि के कार्य कराना हो वे आज ही पटवारी से करवाएं। इस मौके पर ग्राम की बुजुर्ग महिलाओं ने सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्राप्त नहीं होने की शिकायत की। कलेक्टर ने जांच के निर्देश दिए। साथ ही महिलाओं के पोष्ट ऑफिस के बजाए राष्ट्रीयकृत बैंक में खाता खुलवाने के लिए ग्राम पंचायत सचिव को निर्देशित किया। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि ग्राम पंचायत या अन्य किसी भी विभाग को अधिकारी-कर्मचारी को कार्य कराने के एवज में राशि नहीं दें, सभी शासकीय कार्य नि:शुल्क होते हैं। यदि कोई अधिकारी या कर्मचारी राशि की मांग करता है तो इसकी सूचना तत्काल दें।
ग्राम निछमा में कलेक्टर ने विद्यालयों का निरीक्षण किया। इस दौरान नए भवन की छत टपकने की शिकायत ग्रामीणों ने की। निछमा में ग्रामीणों ने पात्रता पर्ची नहीं मिलने, सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि समय पर खाते में जमा नहीं होने की शिकायत की। ग्राम निछमा के मंदिर परिसर स्थित शासकीय भवन में निजी विद्यालय श्रष्टि कांवेंट स्कूल को तत्काल खाली कराने के निर्देश दिए। ग्रामीणों ने शिकायत की कि पंचायत के कर्मचारी द्वारा राशि की मांग की जाती है, कलेक्टर ने संबंधित कर्मचारी को तत्काल पद से हटाने के निर्देश दिए। ग्राम निपानिया डाबी में कलेक्टर ने प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालय का निरीक्षण  किया। इस दौरान उन्होंने बच्चों से गिनती एवं पहाड़े लिखवाए। प्रधानाध्यापिका श्रीमती अंजना आर्य को उन्होंने शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के निर्देश दिए। मध्यान्ह भोजन के निरीक्षण में उन्होंने समूह संचालक को निर्देश दिए कि बच्चों को भरपेट भोजन कराएं। दाल एवं सब्जी की गुणवत्ता सुधारें। भ्रमण के दौरान सभी ग्रामों में कलेक्टर ने ग्रामीणों से कहा कि वे अपने बच्चों को विद्यालय अनिवार्य रूप से भेंजे। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना एवं प्रधानमंत्री बीमा योजनाओं की जानकारी दी। ग्रामीणों को प्रधानमंत्री बीमा सुरक्षा योजनाओं से जुडऩे के लिए कहा ताकि बीमा योजनाओं का लाभ उनके परिवारों को मिल सके। इस मौके पर उन्होंने ग्राम पंचायत सचिवों को भी निर्देश दिए कि वे प्रधानमंत्री बीमा योजनाओं से ग्रामीणों को जोड़े। ग्राम पंचायत सचिवों को कलेक्टर ने निर्देश दिए कि ग्राम के पात्रताधारी सभी हितग्राहियों को शासन की विभिन्न योजनाओं से लाभांवित करें। यदि किसी ग्राम से अब पात्र हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ प्राप्त नहीं होने शिकायत मिली तो संबंधित सचिवों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ सुदेश मालवीय, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व रणजीत कुमार, सीएमएचओ डॉ. अनुसूया गवली सिन्हा, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास डी.एस. जादौन, तहसीलदार अनिरूद्ध मिश्रा, सीईओ जनपद जितेन्द्र सिंह सेंगर, नायब तहसीलदार वीरेन्द्र पोराणिक मौजूद थे।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi