जनसुनवाई में कलेक्टर ने किये त्वरित निर्णय, लोगों को मिला लाभ

0
56
Quick decision taken by collector in public hearing, people get benefit

awdhesh dandotia
मुरैना। प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी जन सुनवाई योजना मुरैना जिले में जरूरत मंद परिवारों के लिए वरदान शावित हो रही है। जन सुनवाई प्रत्येक मंगलवार को प्रात: 11 से 1 बजे तक करने के निर्देश प्रत्येक जिला कार्यालय को प्राप्त है। इसके तहत कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में जनसुनवाई में मंगलवार को 153 आवेदनों को सुना गया। जिसमें कई आवेदन ऐसे पाये गए जिन्हें कलेक्टर द्वारा मौके पर ही हल कर दिया गया। जन सुनवाई में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सुश्री सोनिया मीणा, अपर कलेक्टर एस.के.मिश्रा, एसडीएम, तहसीलदार, नगरनिगम सहित समस्त जिला अधिकारी उपस्थित थे।

Quick decision taken by collector in public hearing, people get benefitजन सुनवाई में कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार ने मंगलवार को 153 समस्याओं को सुना उन्हें ऑनलाइन के माध्यम से जिला अधिकारियों को भेजने के निर्देश दिए है। साथ ही जिलाधिकारियो से कहा है कि 7 दिवस के अंदर निराकरण कर जिला कार्यालय को अवगत करायेंगे। इसके साथ ही उन्होने प्रत्येक कार्यालय में 11 से 1 बजे तक जनसुनवाई करने के निर्देश दिए है। जन सुनवाई में वार्ड क्र.7 दाऊजी नगर मुरैना गांव की उॢमला कुशवाह पत्नी सोवरन ङ्क्षसह ने राष्ट्रीय परिवार सहायता हेतु आवेदन कलैक्टर को प्रस्तुत किया। आवेदन को पढते ही कलेक्टर ने नगरनिगम के विशालङ्क्षसह को निराकरण कर तथा वीपीएल राशनकार्ड एवं पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश दिए है। जन सुनवाई में नहारङ्क्षसह गोस्वामी अम्बाह निवाजी का पुरा ने आवेदन किया कि मेरे पिता की शादी में महन्त ढोडरी रघुनाथ दास ने अपनी बच्ची की शादी में 3 वीघा जमीन दान दहेज में दी थी क्योंकि उनका बच्चा कोमलदास 9 साल का था उसके पालन पोषण करने के लिए जमीदारों ने दिलाइ थी। उसकी जमीन पर दबंग लोगो ने कब्जा कर लिया है जोतने नही देते है। कलेक्टर ने तत्काल फोन पर अम्बाह तहसीलदार को निर्देश दिए कि संबंधित आवेदन पर निराकरण मुझे सूचित करें।

ठेकेदार के विरूद्घ एफआईआर दर्ज कराये
ग्राम वघेल जौरा के ओमप्रकाश शर्मा ने आवेदन प्रस्तुत किया कि पीएमजीएसवाय द्वारा रोड का निर्माण कराया गया है। जिसमें सर्वे क्र. 534 हल्का नं. 38 में रोड निर्माण जबरदस्ती कराई गई है मेरे द्वारा विरोध किया तो एजेंसी द्वारा मुझे प्रलोवन देकर जमीन का मुआवजा रेट के हिसाब से 60 हजार रूपये का चैक इलाहाबाद बैंक का प्रदान किया। मेरे द्वारा जब बैंक में चैक दिखाया तो वह खाता पहले से ही बंद बताया गया। इस संबंध में कलेक्टर ने पीएमजीएसवाय को प्रबंधक को संबंधित ठेकेदार के विरूद्घ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए है।