All type of Newsछत्तीसगढ़

पुलिस अधिकारी सेवा भावना से कार्य करें: ए.डी.जी.पी. 

पुलिस अधिकारी सेवा भावना से कार्य करें: ए.डी.जी.पी. 

रायपुर  

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण, प्रशाासन एवं छ.स.बल) श्री संजय पिल्ले, ने छत्तीसगढ़ पुलिस अकादमी चंदखुरी में 11 जून को छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित वर्ष 2016 के कुल 18 उप पुलिस अधीक्षकों का बुनियादी प्रशिक्षण का शुभारंभ किया। इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री संजय पिल्ले ने नव नियुक्त परिवीक्षाधीन उप पुलिस अधीक्षकों को राज्य पुलिस सेवा में चयनित होने पर बधाई देते हुए कहा कि पुलिस की नौकरी जनता की सेवा है और इसे सेवा भावना से कार्य करना चाहिए। नव नियुक्त पुलिस अधिकारी अनुशासित होकर प्रशिक्षण प्राप्त करने, शारीरिक एवं मानसिक क्षमता को सुदृढ़ करने तथा पुलिस से आमजनों को होने वाले अपेक्षाओं, पुलिस के कर्तव्यों, पुलिस की आम नागरिकों के समक्ष सकारात्मक छवि बनाये रखने के संबंध में प्रशिक्षुओं का मार्गदर्शन किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ पुलिस अकादमी में सीखने के लिए बहुत कुछ मिलेगा साथ ही प्रदेश के आम नागरिकों के मन में पुलिस के प्रति विश्वास पैदा करना और अपराधी तत्वों के मन में कानून का भय निर्मित करना ही सच्ची पुलिस सेवा है। श्री पिल्ले ने आशा व्यक्त किया कि नव नियुक्त पुलिस अधिकारी अकादमी से प्रशिक्षण प्राप्त कर छत्तीसगढ़ पुलिस का गौरव बढ़ाएंेगे।
छत्तीसगढ़ पुलिस अकादमी के पुलिस अधीक्षक, श्री जितेन्द्र सिंह मीणा, द्वारा प्रशिक्षुओं को एक आदर्श पुलिस अधिकारी में किन-किन गुणों की अपेक्षा की जाती है एवं चुनौतियों से लड़ने, चुनौतियों को अवसर बनाने तथा स्वच्छ दृष्टिकोण अपनाकर, प्रशिक्षण पूर्ण कर पुलिस और जनता के रिश्ते को मजबूत करने हेतु प्रेरणादायक उद्बोधन दिया। इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. श्रीमती संगीता पीटर्स द्वारा अकादमी में उपलब्ध संसाधन, प्रशिक्षण हेतु आधारभूत सुविधायें एवं प्रशिक्षण नीति के संबंध में समस्त प्रशिक्षुओं को प्रारंभिक जानकारी प्रदान की गई एवं आगामी 52 सप्ताह तक चलने वाले प्रशिक्षण के दौरान, प्रशिक्षुओं को कानून के विषयों, साइबर क्राइम, अपराध शास्त्र, अपराधों का अन्वेशण, फोरेंसिक सांइस, फोरेंसिक मेडिसिन, संचार, मानवाधिकार, मानव व्यवहार, नेतृत्व एवं व्यक्तित्व विकास और स्ट्रेस मैनेजमेंट जैसे विषयों का अध्यापन आंतरिक प्रशिक्षण अंतर्गत दिया जाना बताया। वहीं शारीरिक रूप से चुस्त दुरूस्त रखने के लिये फ़िज़िकल ट्रेनिंग, आर्म्स ड्रिल, बलवा ड्रिल, फ़ील्ड क्राफ़्ट्स और टैक्टिक्स, फायरिंग, मैप रींिडंग, अन आर्म्ड कॉम्बैट का प्रशिक्षण तथा ध्यान और शक्तियों के संचय के लिये प्रशिक्षुओं को योग का प्रशिक्षण भी दिया जायेगा। इस प्रकार शस्त्र और शास्त्र सभी विधाओं में प्रशिक्षण दिया जायेगा।
उद्घाटन कार्यक्रम में आभार प्रदर्षन अकादमी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री मिर्जा जियारत बेग ने किया।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi