All type of NewsFeaturedछत्तीसगढ़

किसानों को संगठित कर उनकी आय बढ़ाने करें सुनियोजित प्रयास: चम्पावत

कृषि से जुड़े विभागों के अधिकारियों की संभागीय बैठक सम्पन्न

Organize farmers, increase their income, planned efforts: Champawat

अम्बिकापुर, सरगुजा संभाग के कमिष्नर श्री अविनाष चम्पावत ने कृषि एवं कृषि से जुड़े विभागों के अधिकारियों से कहा है कि वे किसानों की आय दुगुनी करने के लिए किसानों को संगठित कर विभिन्न योजनाओं का सुनियोजित तरीके से लाभ पहुंचाना सुनिष्चित करें। कमिष्नर श्री चम्पावत ने यह निर्देष आज यहां कमिष्नर कार्यालय के सभाकक्ष में सम्पन्न कृषि, उद्यानिकी, पषुपालन, मत्स्य पालन और रेषम विभाग के अधिकारियों की संभागीय बैठक में दिए।

Organize farmers, increase their income, planned efforts: Champawatकमिष्नर श्री चम्पावत ने कृषि विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे किसानों को विभागीय योजनाओं की पूरी जानकारी देते हुए पात्रतानुसार लाभ दिलाना सुनिष्चित करें। उन्होंने कहा है कि हर विकासखण्ड में कम से कम किसानों के दो एफपीओ गठित करें और एफपीओ के सदस्य किसानों को धान बीज का उत्पादन करने के लिए आवष्यक सहायता और मार्गदर्षन दें तथा उन्हीं किसानों से ही धान बीज की खरीदी करें। ऐसा करने से जहां एक ओर जिले में ही धान बीज की आवष्यकता की पूर्ति हो सकेगी वहीं किसानों को धान बीज उत्पादन का अच्छा मूल्य प्राप्त होने से उनकी आय में भी बढ़ोŸारी होगी। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि अगामी दो माह में एफपीओ गठन की कार्यवाही पूर्ण कर लेवें। कमिष्नर ने कहा है कि एफपीओ के 15 सदस्यीय संचालक मण्डल में 50 प्रतिष महिलाओं को सदस्य बनाएं तथा संचालक मण्डल में युवाओं को प्राथमिकता के आधार पर सदस्य मनोनीत करें।
कमिष्नर श्री चम्पावत ने उद्यान विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे हर विकासखण्ड में कम से कम एक एफपीओ गठित करें और उद्यानिकी को बढ़ावा देने के लिए विभागीय योजनाओं के साथ ही राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना और जिला खनिज संस्थान न्यास मद की राषि से अभिसरण कर किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सुनियोजित कार्ययोजना तैयार करें। उन्होंने उद्यानिकी की कल्याणकारी योजनाओं का बेहतर ढ़ंग से संचालन कर किसानों की आमदनी बढ़ाने में उद्यान विभाग की महत्वपूर्ण भूमिका का सुनिष्चित करने के निर्देष दिए हैं। कमिष्नर ने पषुपालन विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे हर विकासखण्ड में किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए बकरीपालन और सुअरपालन करने के लिए योजना तैयार करें। उन्होंने कहा कि बकरीपालन और सुअरपालन के माध्यम से कम लागत में अधिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने पषुपालन विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे हर जिले में 100-100 हेक्टेयर में घास उत्पादन का कार्य किसानों से कराएं, जिससे जिले के पषुपालकों की चारे की आवष्यकता की पूर्ति स्थानीय स्तर पर हो सके और दुग्ध उत्पादन व्यवसाय का भी बेहतर संचालन हो सके। उन्होंने मछली पालन विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे हर विकासखण्ड में 1-1 हजार डबरियों का निर्माण कराने की योजना तैयार करें और इन डबरियों में मछली पालन कराने के लिए किसानों को आवष्यक सुविधाएं और मार्गदर्षन उपलब्ध कराएं।
कमिष्नर श्री चम्पावत ने रेषम विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वे हर जिले में 500-500 हेक्टेयर में अर्जुन, साजा और मलबरी का वृक्षारोपण कराने की कार्ययोजना तैयार करें। उन्होंने कहा है कि विभागीय योजनाओं के साथ राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना और जिला खनिज संस्थान न्यास मद के अभिसरण से रेषम उत्पादन का व्यापक कार्यक्रम तैयार करें। कमिष्नर ने कृषि विभाग के उप संचालकों से कहा है कि वे एफपीओ गठित करने में रेषम विभाग का सहयोग करने के लिए मैदानी अधिकारियों को आवष्यक निर्देष देना सुनिष्चित करें।
बैठक में संयुक्त संचालक कृषि श्री सी.एन.सिंह, उपायुक्त विकास श्री महावीर राम और सरगुजा संभाग के सरगुजा, कोरिया, जषपुर, सूरजपुर, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के कृषि, पषुपालन, उद्यान और रेषम विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

गंभीरता एवं सतर्कतापूर्वक करें स्काई योजना का क्रियान्वयन – कलेक्टर
कलेक्टर ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से की योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा
अम्बिकापुर, कलेक्टर श्रीमती किरण कौषल ने आज कलेक्टोरेट स्थित एनआईसी कक्ष से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से शासन की महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा की। उन्होंने स्काई योजना को राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना बताते हुए इसके क्रियान्वयन में पूरी गंभीरता व सतर्कता बरतने के निर्देष दिए। उन्होंने कहा कि स्काई योजना के लिए निर्धारित प्रपत्र में पात्र हितग्राहियों की जानकारी जिसमें राषनकार्ड, आधारकार्ड, जॉब कार्ड तथा स्मार्ट कार्ड नम्बर सही-सही जानकारी दर्ज करने के निर्देष विकासखण्ड षिक्षा अधिकारियों, खण्ड चिकित्सा अधिकारियों एवं खाद्य निरीक्षक तथा मनरेगा के परियोजना अधिकारियों को दिए।
कलेक्टर ने कहा कि ऑनलाईन प्रविष्टि हेतु शेष आवेदनों को अगले दो दिन में पूर्ण कराएं तथा प्रविष्टि में किसी प्रकार की गलती न हो इसका विषेष ध्यान रखें। उन्होंने बताया कि अगामी 7 अगस्त से राज्य में स्काई योजना के तहत स्मार्टफोन बांटने की कार्यवाही शुरू हो जाएगी। इसलिए जल्द से जल्द फार्म की सभी औपचारिकताओं को पूर्ण कराते हुए ऑनलाईन एन्ट्री कराएं। कलेक्टर ने चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि 1 जनवरी 2018 की स्थिति में मतदाता सूची का प्रकाषन किया जा चुका है। उन्होंने मतदाता सूची का सत्यापन अगले दो दिवस में पूर्ण करने के निर्देष तहसीलदारों को दिए। इसके साथ ही मतदान केन्द्रों से संबंधित 26 बिन्दु की जानकारी के आधार पर भौतिक सत्यापन कराए जाने के संबंध में भी अनुविभागीय दण्डाधिकारियों एवं तहसीलदारों को सत्यापन प्रतिवेदन तैयार करने के निर्देष दिए। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग के निर्देषानुसार दिव्यांग मतदाताओं के लिए प्रत्येक मतदान केन्द्रों में व्हील चेयर जाने के लिए रैम्प का निर्माण कराएं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मतदान केन्द्र के दरवाजे की चौड़ाई तीन फीट से कम न हो तथा मतदान केन्द्रों में पानी, बिजली, शौचालय की व्यवस्था उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि मतदान केन्द्रों युक्तियुक्त तरंग के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में 1 हजार 200 से अधिक तथा शहरी क्षेत्र में 1 हजार 400 से अधिक मतदाता होने की स्थिति में दो मतदान केन्द्र बनाएं। उन्होंने कहा कि चुनाव में इस बार ई.व्ही.एम. मषीन के साथ व्ही.व्ही. पैट भी लगाया जाना है इसके लिए अनुभाग स्तर पर प्रषिक्षण की व्यवस्था हेतु अनुविभागीय अधिकारी आवष्यक तैयारी कर लें।
कलेक्टर ने षिक्षाकर्मियों के संविलियन प्रक्रिया की समीक्षा करते हुए कहा कि शासन के निर्देषानुसार 14 एवं 15 जुलाई को षिविर का आयोजन किया जाना है। षिविर में सभी संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी समय पर उपस्थित रहें तथा षिक्षाकर्मियों द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले आवेदनों को लेकर पावती अवष्य दें। उन्होंने कहा कि आवेदन प्रस्तुत करने आने वाले षिक्षाकर्मियों के लिए षिविर स्थल पर बैठने की व्यवस्था भी सुनिष्चित करें। कलेक्टर ने कहा कि षिक्षाकर्मियों के पदोन्नति एवं वरिष्ठता सूची को गंभीरता एवं सतर्कतापूर्वक तैयार कराएं किसी प्रकार की दुविधा अथवा भ्रम की स्थिति हो तो जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी या जिला षिक्षा अधिकारी को तत्काल अवगत कराएं। उन्होंने कहा कि छूटे हुए षिक्षाकर्मियों के लिए दो दिन के षिविर के बाद भी आवेदन लेकर संविलियन की कार्यवाही करें।
कलेक्टर ने स्कूलों के दिव्यांग बच्चों के लिए यूनिक आईडेन्टीफिकेषन कार्ड बनाने के संबंध में कहा कि समाज कल्याण विभाग द्वारा विकासखण्डवार दिव्यांग बच्चों की सूची तैयार की गई है। इस सूची के आधार पर यूनिक आईडेन्टीफिकेषन कार्ड बनाने हेतु अभियान चलाएं। उन्होंने बताया कि यूनिक आईडेन्टीफिकेषन कार्ड के लिए दिव्यांग प्रमाण पत्र, आधार कार्ड तथा दो पासपोर्ट साईज के फोटो की आवष्यकता होगी। दिव्यांग प्रमाण पत्र के नवीनीकरण कराए जाने की स्थिति में उसे नवीनीकरण भी कराएं। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि जनपदवार सूची तैयार कर प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत लाभान्वित करें। इस संबंध में बताया गया कि लखनपुर जनपद में 2, अम्बिकापुर में 6 दावों का निष्पादन किया जा चुका है। कलेक्टर ने पीडीएस बारदाना की समीक्षा करते हुए कहा कि प्रत्येक उचित मूल्य की दुकान के लिए आवष्यक बारदानों की संख्या की जानकारी संबंधित खाद्य निरीक्षक उपलब्ध कराएं। खाद्य अधिकारी ने बताया कि जिले में 15 लाख बारदानों की आवष्यकता है तथा अभी 7 लाख पुराने बारदानें उपलब्ध है। कलेक्टर ने आबादी पट्टा वितरण की समीक्षा करते हुए कहा कि वितरण के लिए शेष पट्टों का वितरण शीघ्र कराते हुए इसका ऑनलाईन एन्ट्री भी कराएं। उन्होंने आबादी पट्टा वितरण में कमजोर प्रदर्षन कर उदयपुर एवं लखनपुर के तहसीलदारों को इस पर गंभीरता लाने के निर्देष दिए।
इस अवसर पर जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती नम्रता गांधी, अपर कलेक्टर श्री निर्मल तिग्गा, सहायक कलेक्टर श्री आकाष छिकारा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एन.के. पाण्डेय, अनुविभागीय राजस्व अधिकारी श्री प्रभाकर पाण्डेय, नगर निगम आयुक्त श्रीमती सूर्यकिरण तिवारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती नयनतारा सिंह सहित अन्य जिलाधिकारी उपस्थित थे।

सरगुजा जिले में अब तक 272 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज
गत वर्षो की तुलना में 94.9 प्रतिषत बारिष
अम्बिकापुर, सरगुजा जिले में 1 जून से अब तक 272.7 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है, जो गत वर्ष की तुलना में अब तक हुई बारिष का 94.9 प्रतिषत है। भू-अभिलेख कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार सरगुजा जिले के मैनपाट तहसील में सर्वाधिक 348.8 मिलीमीटर वर्षा दर्ज हुई है तथा गत वर्ष इसी अवधि तक 319 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई थी। इसी प्रकार लुण्ड्रा तहसील में इस वर्ष न्यूनतम 195 मिलीमीटर वर्षा तथा गत वर्ष 419.8 मिलीमीटर वर्षा दर्ज हुई थी। इसके अतिरिक्त अम्बिकापुर तहसील में 1 जून से अब तक 298.2 मिलीमीटर वर्षा तथा गत वर्ष इसी अवधि तक 475.8 मिलीमीटर, सीतापुर तहसील में अब तक 348.6 मिलीमीटर तथा गत वर्ष 310.6 मिलीमीटर, लखनपुर तहसील में 270.7 मिलीमीटर तथा गत वर्ष 164.5 मिलीमीटर, उदयपुर तहसील में 211.2 मिलीमीटर तथा गत वर्ष 230.9 मिलीमीटर एवं बतौली तहसील में इस वर्ष 236.9 मिलीमीटर तथा गत वर्ष 254.2 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई थी। प्रतिवेदित दिनांक को अम्बिकापुर तहसील में 4.2 मलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार लुण्ड्रा तहसील में 1 मिलीमीटर, सीतापुर तहसील में 2.2 मिलीमीटर, लखनपुर तहसील में 32.3 मिलीमीटर, उदयपुर तहसील में 35.2 मिलीमीटर एवं बतौली तहसील में 17.2 मिलीमीटर तथा मैनपाट तहसील में 2.5 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की हुई है।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi