पालकी में सवार होकर भक्तों के कांधों पर शाही ठाठ-बाठ से निकले नीलकंठेश्वर

0
127
Nilkantheshwar, which came out of the royal chant on the shoulders of the devotees, riding in the palanquin

amjad khan
शाजापुर। बाबा नीलकंठेश्वर सोमवार को फूलों से सजी पालकी में सवार होकर भक्तों के द्वार पहुंचे।

Nilkantheshwar, which came out of the royal chant on the shoulders of the devotees, riding in the palanquinप्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी हाट मैदान के गिरासिया घाट स्थित बाबा नीलकंठेश्वर शाही ठाठ-बाठ से नगर भ्रमण पर निकले। सवारी के पूर्व बाबा की महाआरती सांसद मनोहर ऊंटवाल, विधायक अरूण भीमावद, पुलिस अधीक्षक शैलेंद्रसिंह चौहान, नपाध्यक्ष प्रतिनिधि क्षितिज भट्ट, किरण ठाकुर सहित अन्य अतिथियों द्वारा की गई।

Nilkantheshwar, which came out of the royal chant on the shoulders of the devotees, riding in the palanquinइसके बाद अतिथियों ने बाबा के मुखौटे को पालकी में विराजित कर सवारी की शुरूआत की। सवारी में गजराज युद्ध की झांकी लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती रही। वहीं झाबुआ की भगोरिया पार्टी सदस्यों के शानदार नृत्य की शहरवासियों ने खुब सराहना की। इसीके साथ इटारसी के ईश्वर ब्रास बैंड कलाकारों ने शिव धुन बजाकर पूरे नगर को शिव के रंग में रंग दिया। साथ ही युवाओं ने हैरतंगेत करतब दिखाए।

Nilkantheshwar, which came out of the royal chant on the shoulders of the devotees, riding in the palanquinसवारी मंदिर प्रांगण से विशेष पूजा के बाद शाम लगभग 6 बजे रवाना हुई जो बंसी टॉकीज, नदी चौराहा, महुपूरा चौराहा, धौबी चौराहा, एबी रोड, ब्रज बिहार कालोनी, नहर चौराहा, स्टेशन रोड, गंगा मार्केट, आदर्श कालोनी, टंकी चौराहा, शास्त्री मार्ग से होती हुई पुन: मंदिर पहुंचकर सपंन्न हुई।