माता पद्मावती का जीवन वृत्त पाठ्य पुस्तकों में शामिल होगा

0
78
Indian culture is always ready to show the right path to the world

brijesh parmar
उज्जैन । मध्यप्रदेश में फिल्म निदेशक संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती के प्रदर्शन पर रोक लगाने को लेकर किसान सम्मेलन के ठीक बाद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान का समस्त राजपुत संगठनों ने अभिनंदन किया । इस दौरान उनके समक्ष मांग रखी गई कि मां पदमावती का जीवन वृत्त पाठ्य पुस्तकों में जोड़ा जाए । इसकी उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि अगले सत्र से इसे पाठ्य पुस्तकों में जोडा जाएगा।

Indian culture is always ready to show the right path to the worldइसके पूर्व उज्जैन के किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री शिवराजसिहं चौहान ने कहा कि भारत के महापुरूषों का अपमान किसी भी किमत पर नहीं होने दिया जाएगा। इसी के चलते राजपुत समाज की मांग पर फिल्म पर प्रदेश में प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई है। किसान सम्मेलन के ठीक बाद भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता के महाकाल वाणिज्य केन्द्र स्थित निवास के बाहर अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के साथ करणी सेना और समाज के विभिन्न संगठनों ने श्री चौहान का अभिनंदन किया । इसी दौरान महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री अनिलसिंह चंदेल ने मांग रखी की मां पद्मावती के जीवन वृत्त को पाठ्य पुस्तक में शामिल किया जाए जिसे मुख्यमंत्री ने तत्काल स्वीकार करते हुए अगले सत्र से पुस्तकों में शामिल करने की घोषणा की है।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने किसान सम्मेलन में कहा कि राजपुत समाज की मांग पर प्रदेश में रानी पद्मावती फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई है। प्रदेश में महापुरूषों का अपमान किसी भी किमत पर नहीं होने दिया जाएगा ।