All type of NewsFeaturedजिले की खबरेशाजापुर

एक घंटे की शाखा में लगाए लाखों प्रहार

Document1

amjad khan
शाजापुर। प्रत्येक स्वयंसेवक प्रहार महायज्ञ का हिस्सा बनकर जोश के साथ प्रहार लगा रहे थे और गत वर्ष के अपने आंकड़े को पीछे छोड़ रहे थे। जोश भी ऐसा कि एक हजार से कम प्रहार किसी ने भी नहीं लगाया और आंकड़ा 7 हजार तक पहुंच गया कई जगह स्वयंसेवकों ने 7 से 8 हजार प्रहार भी लगाए। ये अवसर था राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा प्रतिवर्षानुसार मनाए जाने वाला प्रहार महायज्ञ का। 16 दिसंबर शनिवार को जिले भर में संघ की शाखाओं पर प्रहार महायज्ञ का आयोजन किया गया, जिसमें प्रत्येक स्वयंसेवक ने हजारों की संख्या में प्रहार लगाकर 16 दिसंबर 1971 के भारतीय सैना के पराक्रम को याद किया। सुबह 8 बजे स्थानीय स्टेडियम ग्राउंड में भी नगर के स्वयंसेवक एकत्रित हुए और संघ की शाखा लगने के बाद प्रहार महायज्ञ में हिस्सा लिया।

Document1प्रहार लगाने में कई स्वयंसेवकों ने नए कीर्तिमान बनाए, जिसमें किसी ने 4 हजार तो किसी ने 8 हजार के आंकड़े को भी पार कर दिया। जिलेभर के प्रहार के आंकड़ों की संख्या एक लाख के भी पार हो गई। सभी स्वयंसेवकों ने उत्साह के साथ इस प्रहार महायज्ञ में भाग लिया। संघ के प्रचार प्रमुख विजय जोशी ने बताया कि 16 दिसंबर 1971 में भारतीय सेना के पराक्रम के सामने पाकिस्तान के 90 हजार सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था। भारतीय सैना के इस पराक्रम को याद करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा विगत कई वर्षों से इस दिन को विजय दिवस के रूप में मनाया जा रहा है और इस दिन संघ की सभी शाखाओं पर प्रहार महायज्ञ का आयोजन कर सभी स्वयंसेवक दंड से प्रहार लगाकर अपनी आहूति इस महायज्ञ में डालते हैं।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi