All type of NewsFeaturedजिले की खबरेशाजापुर

गंगा पूजन के साथ सिर पर कलश धारण कर निकले मंगलामुखी

Mangalmukhi came out wearing a quartz with Ganga worship

फिल्मी गीतों पर नाचते-गाते हुए शहर के प्रमुख मार्गां से गुजरा मंगलामुखियों का कारवां

amjad khan
शाजापुर। मंगलामुखियों के महा सम्मेलन की शहर में धूम मची हुई है और इसीके चलते परंपरानुसार निकाले जा रहे जुलूसों में मंगलामुखियों की झलक पाने के लिए लोगों का भारी हुजूम उमड़ रहा है। बैंडबाजों की धुन पर आकर्षक परिधान में सजधज कर शहर की सड़कों पर जब मंगलामुखियों की टोली निकली तो लोगों ने गुलाब की पंखुडिय़ों से उनका स्वागत-सत्कार कर आशीर्वाद मांगा।

Mangalmukhi came out wearing a quartz with Ganga worshipसाथ ही युवा मंगलामुखियों के साथ सेल्फी लेते नजर आए। उल्लेखनीय है कि शहर में मंगलामुखियों का महासम्मेलन जारी है जिसके चलते शुक्रवार को परंपरागत ढंग से स्थानीय तालाब की पाल स्थित मां गजलक्ष्मी मंदिर में मंगलामुखियों ने गंगा पूजन किया।

Mangalmukhi came out wearing a quartz with Ganga worshipइसके बाद यहां से दोपहर करीब 2 बजे कलश यात्रा शुरू हुई जिसमें आकर्षक वस्त्रों में सजे मंगलामुखी सिर पर कलश धारण कर चल रहे थे। वहीं अन्य मंगलामुखियों की टोली फिल्मी गीतों पर झूमते नाचते हुए चल रही थी। जुलूस में जयपुर की काजल सहित अन्य मंगलामुखी का नृत्य आकर्षण का केंद्र रहा। जुलूस मां गजलक्ष्मी मंदिर से शुरू हुआ जो तालाब की पाल, कसेरा बाजार, आजाद चौक, सराफा बाजार, सोमवारिया बाजार, कंस चौराहा, बालवीर चौराहा, कुम्हारवाड़ा घाटी, महूपुरा नदी, धोबी चौराहा होते हुए पटेल गार्डन पहुंचकर संपन्न हुआ।

Mangalmukhi came out wearing a quartz with Ganga worshipमंच लगाकर किया स्वागत
महा सम्मेलन के दौरान शहर में मंगलामुखियों के निकले तीसरे जुलूस को निहारने के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। शहर में जहां-जहां से भी जुलूस गुजरा वहां-वहां पर सड़कों के दोनों ओर महिलाओं और पुरूषों की भीड़ जमा रही। वहीं सामाजिक संगठनों ने मंच लगाकर मंगलामुखियों का गुलाब की पंखुडिय़ां बरसा कर जोरदार स्वागत किया। जुलूस में शाजापुर मंगलामुखी नायक बदरूबाई सहित अन्य जिले से आए नायक कार में सवार होकर शामिल हुए। खासकर जुलूस में जयपुर सुंदरी काजल प्रमुख आकर्षण का केंद्र रही। कसेरा बाजार में मंगलामुखी को तौला गया और सोमवारिया बाजार में नवाब परिवार की तरफ से भव्य स्वागत-सत्कार किया गया।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi