किंगफिशर कप में पलाश को मिली दोहरी सफलता

0
105

पलाश व तरूण ने दर्ज की खिलाबी जीत

अमोद व इमरान अपने वर्ग में रहे विजेता

यश भांगरे बने एकल विजेता

Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash Kingfisher reported a double success in the cup Palash
javed ali

मण्डला। किंगफिशर कप बैडमिंटन टूर्नामेंट का समापन पुलिस अधीक्षक राहुल कुमार के मुख्य आतिथ्य, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया मण्डला के चीफ मैनेजर विवेक पाण्डेय की अध्यक्षता और एसडीएम प्रवीण फुलपगारे व मप्र राईस मिल एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अनिल वीरानी के विशिष्ट आतिथ्य में हुआ।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक मण्डला राहुल कुमार ने खिलाडियों को अपनी शुभकामनाएं दी व आयोजकों को प्रतियोगिता के बेहतर संचालन के लिये बधाई देते हुये भविष्य में भी बैडमिंटन खेल के लिये हर सहयोग का भरोसा दिलाया।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि एसडीएम मण्डला प्रवीण फुलपगारे ने कहा कि किंगफिशर कप के दौरान वक्त कब बीत गया पता ही नही चला। मण्डला में पदस्थापना के बाद से में इस खेल से जुड़ा और किंगफिशर टीम का हिस्सा बन गया। जब भी मैं मैदान में होता हूं तो में अपने को केवल एक खिलाड़ी समझता हूं। मण्डला में बैडमिंटन का खेल पूरे शबाब पर है। किंगफिशर कप के दौरान खिलाडियों ने अपना उत्कृष्ट खेल का प्रदर्शन किया। उन्होंने प्रतियोगिता के विजेता और उपविजेता खिलाडियों को बधाई देते हुये उम्मीद जताई कि ये निरंतर अभ्यास के जरिये जल्द ही मण्डला का नाम प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर पर रोशन करेंगे।
अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में एसबीआई मण्डला के चीफ मैंनेजर विवेक पाण्डेय ने कहा कि मण्डला में पोस्टिंग के बाद से मैंने भी यहां बैडमिंटन खेलना शुरू किया है। यहां बैडमिंटन को लेकर बहुत बढिया माहौल है और युवाओं में बैडमिंटन के लिये आकर्षण देखते ही बनता है। इस प्रतियोगिता के दौरान मुझे कई मैच देखने का मौका मिला, जिससे महसूस हुआ कि मण्डला में प्रतिभा की कोई कमी नही है। इसके साथ ही उन्होंने खिलाडियों और आयोजकों को बेहतरीन प्रतियोगिता के संचालन के लिये मुबारक बाद दी।
किंगफिशर कप के दौरान कई उभरते हुये खिलाडियों ने बेहतर खेल का प्रदर्शन कर बैडमिंटन प्रेमियों का ध्यान अपनी ओर खींचा। किंगफिशर कप के सिंगल्स और डबल्स मुकाबला जीतकर दोहरी सफलता हासिल करने वाले पलाश कछवाहा ने अपने खेल से सभी को रोमांचित और प्रभावित किया। बी प्लस बी वर्ग का डबल्स फाईनल में विकास जैन व बलराम जसवानी की जोड़ी का मुकाबला अमोद श्रीवास व इमरान अली के बीच खेला गया। जिसमें अमोद व इमरान की जोड़ी ने विकास व बलराम की जोड़ी को सीधे सेटों में शिकस्त देकर खिताबी जीत दर्ज की। ए प्लस ए वर्ग के डबल्स फाईनल में नीलेश राय व आशीष पटैल की जोड़ी का सामना पलाश कछवाहा व तरूण पगारे से हुआ। इस मैच में अनुभवी तरूण पगारे व युवा पलाश कछवाहा ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुये किंगफिशर कप पर कब्जा किया। ए वर्ग का सिंगल्स फाईनल में यश भांगरे ने भावेश गोहिल को परास्त कर विजेता होने का गौरव हासिल किया। ए प्लस ए वर्ग का सिंगल्स मुकाबला पलाश कछवाहा व अंकित वीरानी के बीच हुआ। इस मैच में भी पलाश कछवाहा ने शानदार खेल क प्रदर्शन करते हुये अंकित वीरानी को शिकस्त देकर किंगफिशर कप के दोहरे खिताब पर कब्जा किया। विजेता व उपविजेता खिलाडियों को अतिथियों द्वारा चमचमाती ट्राफी प्रदान की गई।
प्रतियोगिता के समापन व पुरूस्कार वितरण समारोह के दौरान किंगफिशर ग्रुप ने कान्हा नेशनल पार्क के समीपस्थ ग्राम मोचा में संचालित अपने किंगफिशर रिसॉर्ट के बाद पौंड़ी रेल्वे क्रासिंग के पास शुरू किये जा रहे अपने नये प्रोजेक्ट होटल ग्रांड किंगफ़िशर एंड रॉयल किंगफ़िशर लॉन का डिस्प्ले भी किया, जिसे उपस्थित लोगों द्वारा खूब सराहा गया। प्रतियोगिता को सफल बनाने में आयोजक अधिवक्ता मनोज फगवानी, अधिवक्ता आलोक खरया, अधिवक्ता आनंद राय के साथ-साथ प्रवीण फुलपगारे, आरपी सोनी, अनिल वीरानी, डॉ सुनील यादव, प्रशांत ठाकुर, शैलेश दुबे, चंद्रेश खरे, सुरेंद्र पमनानी, बलराम जसवानी, सौरभ खरबंदा, अमृतपाल सिंह, रंजीत गुप्ता, रितेश गुप्ता, दिनेश पोपटानी, बिल्लू अग्रवाल, अविनाश जैन, आशु दुबे, संतोष तिवारी, अंकित वीरानी, संकल्प दुबे, साकेत मोदी, नीलेश राय, मनमीत गिल, जतिन बेदी, शुभम खरबंदा आदि ने उल्लेखनीय भूमिका का निर्वाहन किया।