भारत के शेर हुए ढेर, पाकिस्तान ने पहली बार जीती चैपियस चैंपियंस ट्रॉफी

0
210

ओवल। फखर जमान ने पारी के शुरु में मिले जीवनदान के बाद खेली गई आकर्षक शतकीय पारी तथा भारत के गेंदबाजी और बल्लेबाजी में शर्मनाक प्रदर्शन से पाकिस्तान ने आज यहां सबसे महत्वपूर्ण और बहुचर्चित फाइनल में 180 रन की शानदार जीत दर्ज करके पहली बार आईसीसी चैंपियंस ट्रोफी खिताब जीता।

indias-lions-heap-pakistan-won-the-first-chapis-champions-trophyपहले टॉस जीतकर क्षेत्ररक्षण का फैसला, फिर लचर गेंदबाजी और आखिर में बल्लेबाजों के शर्मनाक प्रदर्शन से भारतीय टीम किसी भी समय मुकाबले में नहीं दिखी और उसे किसी आईसीसी टूर्नमेंट के फाइनल में पहली बार पाकिस्तान से हार का सामना करना पड़ा।

भारत ने लंदन में ही हॉकी में पाकिस्तान पर 7-1 से सबसे बड़ी जीत दर्ज की थी, इधर केनिसंगटन ओवल में पाकिस्तान ने क्रिकेट में यह कारनामा दिखा दिया। फखर जमान ने 106 गेंदों पर 12 चौकों और तीन छक्कों की मदद से 114 रन बनाए। उन्होंने अजहर अली (59) के साथ पहले विकेट के लिए 128 रन की साझेदारी की।

indias-lions-heap-pakistan-won-the-first-chapis-champions-trophyबाद में मोहम्मद हफीज (नाबाद 57), बाबर आजम (46) और इमाद वसीम (नाबाद 25) ने भी उपयोगी योगदान पहुंचाया और टीम का स्कोर चार विकेट पर 338 रन तक पहुंचाया।

भारतीय टीम इसके जवाब में 30.3 ओवर में 158 रन पर ढेर हो गयी। भारत अगर 150 रन के पार पहुंच पाया तो उसका श्रेय हार्दिक पांड्या को जाता है जिन्होंने दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से रन आउट होने से पहले 43 गेंदों पर चार चौकों और छह छक्कों की मदद से 76 रन बनाये थे।

amir_celebrates_2017618_204226_18_06_2017मोहम्मद आमिर ने भारतीय पारी के पतन की कहानी लिखी। उन्होंने 16 रन देकर तीन विकेट लिये। हसन अली और शादाब खान ने दो-दो विकेट हासिल किये। आमिर ने भारत शीर्ष क्रम बुरी तरह लड़खड़ा दिया। उसने पहले तीन ओवर के अंदर रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली के विकेट गंवा दिए। आमिर का स्पैल सनसनीखेज था। उनकी पारी की तीसरी गेंद इनस्विंगर थी जिसका रोहित के पास जवाब नहीं था। वह पगबाधा आउट हो गए।

कोहली को पहले ओवर में ही क्रीज पर कदम रखना पड़ा लेकिन वह रंग में नहीं थे। आमिर के अगले ओवर में अजहर ने स्लिप में उनका कैच छोड़ा लेकिन अगली गेंद पर वह उछाल का सही अनुमान नहीं लगा पाए और पॉइंट पर कैच दे बैठे।

भारतीय दर्शक सन्न थे और पाकिस्तानी ऐसे उछल रहे थे मानो उन्होंने आधा मैच जीत लिया हो। आखिर आमिर पूरी तरह से हावी जो हो गया था। शिखर धवन (21) ने एक दो आकर्षक शॉट लगाए लेकिन फिर से आमिर की अतिरिक्त उछाल लेती खूबसूरत गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर सरफराज अहमद के दस्तानों में समा गई।

भारत का स्कोर तीन विकेट पर 33 रन हो गया। तेज गेंदबाजों से त्रस्त भारतीयों को स्पिनरों के सामने कुछ राहत मिलने की उम्मीद थी। लेग स्पिनर शादाब खान को 13वें ओवर में गेंदबाजी के लिये बुलाया गया। उन्होंने युवराज सिंह (22) को गुगली के जाल में फंसाया। अंपायर ने पगबाधा की अपील ठुकरा दी लेकिन शादाब ने तुरंत ही कप्तान सरफराज अहमद से रीप्ले लेने के लिये कहा जिससे साफ हो गया कि युवराज आउट हैं।

महेंद्र सिंह धोनी (चार) उनके पीछे पीछे पविलियन लौट गए। उन्होंने डीप स्क्वायर लेग पर कैच थमाया जबकि शादाब ने केदार जाधव (नौ) को भी नहीं टिकने दिया। छह विकेट 72 रन पर निकल गए। पांड्या ने ऐसे में लंबे शाट खेलने की अपनी क्षमता का अच्छा प्रदर्शन करके भारतीय प्रशंसकों को कुछ खुशी मनाने का मौका दिया। शादाब उनके निशाने पर जिन पर उन्होंने लगातार तीन छक्के लगाए।

पांड्या ने केवल 32 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया जो आईसीसी वनडे टूर्नमेंट के फाइनल में सबसे तेज पचासा है। पांड्या अब भी जीत के लिए खेल रहे थे लेकिन ने रविंद्र जाडेजा ने उन्हें रन आउट करा दिया। जाडेजा ने पांड्या को रन के लिए बुलाया लेकिन फिर वापस मुड़ गए। ऐसे में उन्होंने पांड्या से पहले क्रीज पकड़ने का सफल प्रयास किया और अपने साथी को रन आउट करा दिया। इसके कुछ देर बाद जाडेजा (15) खुद भी पविलियन लौट गए।

इससे पहले कोहली का दबाव वाले मैच में टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला सही साबित नहीं हुआ। भारतीय गेंदबाज नहीं चल पाए। भारतीयों में भुवनेश्वर कुमार ही बल्लेबाजों पर कुछ अंकुश लगा पाए। उन्होंने 44 रन देकर एक विकेट लिया। रविचंद्रन अश्विन और जसप्रीत बुमराह ने सबसे ज्यादा निराश किया। अश्विन ने दस ओवर में 70 रन और बुमरा ने नौ ओवर में 68 रन लुटाए।

कोहली को भारतीय गेंदबाजों से शुरू में सफलता हासिल करने की उम्मीद थी। बुमरा की गेंद पर फखर जमान ने धोनी को आसान कैच भी थमा दिया था। भारतीय दर्शक खुशी में झूम रहे थे लेकिन रीप्ले से साफ हो गया कि बुमराह ने नो बॉल की थी। फखर जमान तीन रन पर पविलियन लौटने वाले थे लेकिन इसके बाद उन्होंने अपने स्कोर में 111 रन और जोड़े।

अजहर ने फखर जमान का भरपूर साथ दिया। भुवनेश्वर ने एक छोर से दबाव बनाए रखा लेकिन बुमराह का आत्मविश्वास डिग गया था। उनकी जगह आठवें ओवर में ही अश्विन को गेंद सौंप दी गई लेकिन वह प्रभाव नहीं छोड़ पाए।

अजहर ने उनके पहले ओवर में ही लॉन्ग ऑफ पर छक्का जमाया। कोहली ने चार ओवर बाद ही अश्विन की जगह रविंद्र जाडेजा को गेंद थमा दी लेकिन उनकी भी नहीं चली। भारत को आखिर में पहली सफलता पाकिस्तानी बल्लेबाजों की विकेटों के पीछे दौड में ढिलायी के कारण मिली। बुमराह का क्षेत्ररक्षण भी तब अच्छा नहीं था लेकिन इस बार भाग्य उनके साथ था। अजहर रन आउट हो गए जिन्होंने 71 गेंदों की अपनी पारी में छह चौके और एक छक्का लगाया।

फखर जमान इसके बाद अधिक आक्रामक मूड में दिखे। जाडेजा के एक ओवर में उन्होंने दो चौके और एक छक्का और फिर अश्विन के अगले ओवर में एक चौका और एक छक्का लगाया। अश्विन की गेंद पर ही स्वीप शॉट से चौका जड़कर उन्होंने अपने करियर का पहला शतक पूरा किया। यह आईसीसी के किसी टूर्नमेंट के फाइनल में किसी पाकिस्तानी बल्लेबाज का पहला शतक है जिसके लिए उन्होंने 92 गेंदें खेली तथा 11 चौके और दो छक्के लगाए।

अश्विन पर छक्का जड़ने के बाद फखर जमां ने हार्दिक पांड्या को भी यही सबक सिखाना चाहा। गेंद उनके बल्ले पर सही तरह से नहीं आयी और जाडेजा ने पॉइंट से दौडकर बड़ी खूबसूरती से उसे कैच में बदल दिया।

भुवनेश्वर ने शोएब मलिक (12) को कवर में धीरज जाधव के हाथों कैच कराया। कोहली ने मैच के दौरान लगातार गेंदबाजी में बदलाव किए और जब जडेजा नहीं चले तो उन्होंने जाधव को गेंद सौंप दी। उन्होंने बाबर को अर्धशतक पूरा नहीं करने दिया। युवराज सिंह ने सीमा रेखा पर उनका कैच लिया। जाधव को डेथ ओवरों में गेंदबाजी पर लगाये रखने का फैसला कोहली का सही नहीं रहा।

हफीज अच्छी तरह से पांव जमा चुके थे और ऐसे में कामचलाऊ स्पिनर पर भरोसा करना सही नहीं था। जाधव के एक ओवर में दो छक्के पड़े। हफीज और इमाद ने हालांकि आखिर तक विकेट नहीं गिरने दिया।