गुनाजिले की खबरे

शहर के पेट्रोल पंपों पर डिजिटल लेनदेन बढ़ा, नहीं मिल रही छूट

सरकार ने की थी सौ रुपए पर 75 पैसे छूट की घोषणा

vishal kadam
गुना।  शहर के पेट्रोल पंपों पर नोटबंदी के बाद कैशलेस डिजिटल लेनदेन तो बढ़ गया, लेकिन सरकार की घोषणा के अनुसार उपभोक्ताओं को 0.75 प्रतिशत की छूट नहीं मिल रही है पेट्रोल-डीजल लेने के बाद उपभोक्ता जब छूट की बात करते हैं तो पेट्रोल पंप कर्मचारी और संचालक इस छूट से अनभिज्ञ होने की बात कहते हैंॅ। नोटबंदी के एक महीने बाद सरकार ने 8 दिसंबर को डिजिटल लेनदेन पर राहत देते हुए डेबिट कार्ड से पेट्रोल या डीजल का पेमेंट करने पर 0.75 यानी सौ ?पए के ईंधन पर 75 पैसे की छूट की घोषणा की थी उपभोक्ता जब शहर के पेट्रोल पंपों पर कार्ड से कैशलैस खरीदारी कर रहे हैं तो उन्हें इस छूट का लाभ नहीं मिल रहा एक उपभोक्ता मंगलवार को शहर के पेट्रोल पंप से 300 रुपए का पेट्रोल अपनी बाइक में भरवाया इसके बाद उन्होंने अपने डेबिट कार्ड से 300 रुपए का पेमेंट किया जब उन्होंने सेल्समेन से डिस्काउंट के बारे में पूछा तो उसका कहना था कि इसकी उसे जानकारी नहीं है इसके बाद वे अंदर आफिस में मैनेजर के पास पहुंचे और पूछा कि उन्हें डिस्काउंट क्यों नहीं मिला तो मैनेजर का कहना था कि उसे डिस्काउंट के संबंध में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि सरकार की घोषणा के अनुसार तीन सौ रुपए पर सावा दो रुपए की छूट मिलना चाहिए थी, लेकिन नहीं मिल सकी इस संबंध में पेट्रोल पंप के मैनेजर का कहना था कि छूट के बारे में उन्होंने सुना था, लेकिन अभी तक ऐसे कोई निर्देश उनके पास नहीं आए हैं। इस वजह से वाहन चालकों को इस सुविधा का लाभ नहीं मिल पा रहा है। जैसी शासन के निर्देश हमारे पास आएंगे बकायदा वाहन चालकों को राहत दी जाएगी। फिलहाल उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। जबकि वाहन चालकों का कहना है कि डिजिटल पेमेंट करने का उन्हें कोई फायदा नहीं मिल रहा है।
पहले एक या दो प्रतिशत करते थे डिजिटल पेंमेंट
शहर के पेट्रोल पंपों पर जहां नोटबंदी के पहले तक बमुश्किल एक-दो प्रतिशत लोग ही पेट्रोल-डीजल का डिजिटल पेमेंट करते थे लेकिन नोटबंदी के बाद ऐसे लोगों की संख्या 30 फीसदी तक पहुंच गई। जानकारी के मुताबिक पेट्रोल-डीजल खरीदने वाले लोग यदि सौ से अधिक रुपए का पेट्रोल खरीदते हैं तो आमतौर पर वे डेबिट कार्ड से ही पेमेंट करते हैं ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ता इसका कम उपयोग कर रह हैं सबसे ज्यादा डिजिटल लेनदेन युवा उपभोक्ता कर रहे हैं।
वाहन चालक बोले: डिजिटल पेमेंट कोई मतलब नहीं
पेट्रोल पंप पर पेट्रोल भराने पहुंचे वाहन चालकों का कहना था कि सरकार ने जो निर्णय लिया है वह पेट्रोल पंप संचालक पालन नहीं कर रहे हैं। इस वजह से डिजिटल पेमेंट करने का उनका कोई मतलब है। अगर इसका फायदा मिलता है तो यह करना मुनासिफ था। वाहन चालकों ने बताया कि फिलहाल नगद पैमेंट से ही पेट्रोल भरवाकर बाइक चलाना होगा। जब तक पेट्रोल पंपों पर यह सुविधा न हो जाए। जबकि दूसरे शहरों के पेट्रोल पंपों पर इस सुविधा का लाभ मिलने लगा है, लेकिन गुना शहर के पेट्रोल पंपों पर यह लाभ कब तक मिलेगा सिर्फ इंतजार बांकी है।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi