All type of NewsFeaturedजिले की खबरेभोपाल

हिरदाराम कॉम्प्लेक्स में भीषण आग 50 करोड़ खाक

Hirdaram complex caters to 50 crores of fire

छह घंटे की मशक्कत के बाद 60 दमकलों ने पाया काबू

सेना के जवान बुलाए गए, निगम की बदइंतजामी सामने आई

भोपाल/हिरदाराम नगर। संत हिरदाराम शापिंग काम्प्लेक्स में रविवार लगी भीषण आग में करीब एक सौ दुकानें जलकर खाक हो गई है। इस आगजनी में कोई जनहानि तो नहीं हुई लेकिन 30-50 करोड के नुकसान का अनुमान है, आग लगने का कारण शार्ट सर्किट होने बताया जा रहा है। छह घंटे बाद करीब 60 दमकलों की मदद से आग पर काबू पाया जा सका।

Hirdaram complex caters to 50 crores of fireबताया जाता है कि आग काम्प्लेक्स के ग्राउंड फ्लोर पर एक दुकान से शार्ट सर्किट से उठी चिंगारी से लगी। कपड़ों का काम्प्लेक्स होने से आग तेजी से फैली। एक घंटे में प्रथम फ्लोर की लगभग सभी दुकानों को घेरे में ले लिया और लपटों ने दूसरे फ्लोर की दुकानों को भी अपनी चपेट में ले लिया, देखते ही देखते पूरा काम्प्पलेक्स धूं-धं- कर जलने लगा। इधर व्यापारी भी आग को बुझाने का प्रयास कर रहे थे लेकिन आग कम होने के बजाय बढ़ती ही जा रही थी।
जिला प्रशासन ने बैरागढ, भोपाल, सीहोर व इंदौर संभाग सहित मिलेट्री, एयपोर्ट, भेल व इंडियन आयल की करीब 3० दमकलों को बुलाया गया जिससे छह घंटे बाद आग को काबू किया गया तब मुख्य मार्ग साइड की करीब चार दर्जन दुकानें छोड़कर सभी दुकानें स्वाह हो गई।

Hirdaram complex caters to 50 crores of fireछोटे पाइप लेकर पहुंची दमकलें
सबसे पहले आग एक दुकान में लगी इसकी फायर ब्रिगेड को सूचना देने पर करीब बीस मिनिट बाद दो दमकलें पहुंची लेकिन उनके पाइप काफी छोटे थे आग काम्पलेक्स के अंदर से शुरू हुई थी और दमकल इलाहबाद बैंक रोड पर खड़ी हुई जिससे घटना स्थल तक पाइप ही नहीं पहुंच पाया और आग ने उसी समय से विकराल रूप धारण करना शुरू किया था। काम्पलेक्स पूरा न खुला होने के कारण अंधेरा भी था अगर उसी समय फाइटर होते तो आग को जल्द काबू किया जा सकता था।

दुकानें तोड़कर बनाया रास्ता
आग बुझाने के लिए फायर दमकलों को तीन दुकानों को तोडऩा पड़ा फिर जाकर आग को बुझानें का काम शुरू किया गया। प्रथम तल के लिए भी ऊपरी दीवार में भी छेद कर पाइप से आग को कंट्रोल किया गया। काम्पलेक्स में अंदर न जाने का रास्ता न होने के कारण दमकल कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही थी। काम्पलेक्स में आग बुझानें के प्रर्याप्त बंदोबस्त नहीं थे। अगर समय पर दमकलों के कर्मचारी अंदर पहुंच जाते तो आग पर नियंत्रण किया जा सकता था।

Hirdaram complex caters to 50 crores of fireपूरा काम्पलेक्स हुआ जर्जर
आगजनी से पूरा काम्पलेक्स जर्जर हो गया है। अंदर से सभी दुकानें क्षतिग्रस्त हो गई है। काम्पलेक्स की छत भी कमजोर हो चुकी है। जो कभी भी गिर सकती है। इसके अलावा पूरी दुकानें भी फिर से बनेगी जिसमें कस से कम तीन माह का समय लगना तय है। इस घटना से कई व्यापारी फुटपाथ पर आ जाएंगे। कुछ का तो रो-रो कर बुरा हाल है। कई व्यापारियों की आंखों से आंसू निकल रहे थे। इस तरह बर्बादी का मंजर देखकर प्रत्यक्षदर्शी भी गम में डूब गए।

इनका हुआ अधिक नुकसान
इस आगजनी में वैसे तो कई व्यपारियों का काफी नुकसान हुआ है। आगजनी के बाद कुछ व्यापारी अपना माल सुरक्षित निकालने में सफल हुए। विधायक प्रतिनिधि राम बसंल ने भी अपना माल बाहर निकाल दिया था। इस आगजनी में राजघराना, परदेशी सूट, साक्षी कलेक्शन, परम्परा सूट, सतगुरू गारमेंट, सांईबाबा शूटिंग व सखीबाबा सहित दुकानों का काफी नुकसान हुआ है। जबकि मुख्यमार्ग साइड की दुकानें बच गई।

अग्निकांड पर मुख्यमंत्री ने जताया दुख
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैरागढ़ स्थित संत हिरदाराम शापिंग कॉम्पलेक्स में लगी भीषण आग से हुए नुकसान पर दु:ख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कॉम्पलेक्स में लगी आग की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन, नगर निगम प्रशासन और पुलिस प्रशासन को आग पर शीघ्र काबू पाने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि जरूरी हो, तो सीहोर और अन्य स्थानों से भी आग पर काबू पाने के लिए फायर ब्रिगेड आदि की सेवाएँ ली जाये।
मुख्यमंत्री श्री चौहान को जब अग्नि दुर्घटना का पता चला तो वे उप राष्ट्रपति एम. वैंकैया नायडू के कार्यक्रम में थे। मुख्यमंत्री ने तत्काल जिला प्रशासन और निगम प्रशासन को आग पर काबू पाने के लिए जरूरी व्यवस्थाएं करने के लिए निर्देशित किया। आग पर काबू पाने के लिए अपरान्ह तक करीब 20 फायर ब्रिगेड यूनिट तैनात थी।

सांसद-महापौर पहुंचे

महापौर आलोक शर्मा और सांसद आलोक संजर ने इस आगजनी की घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से इस बारे में चर्चा की है। हम व्यापारियों की हर प्रकार से मदद करेंगे। भाजपा नेता भगवानदास सबनानी भी मौजूद थे।

घटना बड़ी नहीं होती

कांग्रेसी नेता त्रिलोक दीपानी ने इसकी शिकायत महापौर आलोक शर्मा से करते हुए कहा कि यहां पर अगर फाइटर व दमकलों में लम्बे पाइप होते तो इस प्रकार की घटना से बचा जा सकता था। उन्होंने बताया कि जब आग लगी तो पाइप अंदर तक नहीं पहुंच रहे थे। एेसे फाइटर होते तो आग को काबू किया जा सकता था।

यहां से बुलाईं गईं दमकलें
आग लगने की घटना के बाद भोपाल, सीहोर, भेल, एयरपोर्ट अथॉरिटी, मिलेट्री की दमकलें बुलाकर आग को काबू किया गया। इसमें कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी। फायर बिग्रेड आने से पहले ही आग काफी विकराल रूप धारण कर चुकी है जिसके कारण यहां की दो दमकलों से कुछ नहीं हुआ और बाहर से दमकलें बुलानी पड़ी।

साजिद अली,फायर ब्रिगेड अधिकारी

नुकसान बड़ा है
आग लगने की सूचना सुबह 11 बजे जैसे ही मिली तो पूरे काम्पलेक्स में अफरा-तफरी मच गई और लोग अपने बचाव में इधर ऊधर भागने लगे। पहले तो व्यापारियों ने भी आग बुझाने का प्रयास किया साथ ही फायर बिग्रेड को भी बुलवाया उनका लाखों का नुकसान हुआ है।
भगवानदास सोभनानी

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi