All type of NewsFeaturedछत्तीसगढ़

शिक्षाकर्मियों को बातचीत के लिए सरकार का बुलावा

11 दिन हड़ताल के बाद झुकी सरकार

समाधान निकलने की उम्मीद

रायपुर। बीते 11 दिनों से हड़ताल कर रहे शिक्षाकर्मियों के लिए गुरुवार शाम राहत की खबर लेकर आई। मांगों पर चर्चा के लिए सरकार ने नवनियुक्त पंचायत एवं ग्रामीण विभाग के सचिव आरपी मंडल को पहल करने कहा। इसके बाद उन्होने शिक्षाकर्मियों के प्रतिनिधियों को बातचीत के लिए बुलाया है। मंत्रालय में गुरुवार को दोनों पक्षों की बैठक होगी। श्री मंडल शुक्रवार को ही पंचायत विभाग के प्रमुख सचिव पद की जिम्मेदारी संभालेंगे और इसके तत्काल बाद शिक्षाकर्मियों की बैठक लेंगे। उम्मीद की जा रही है कि कल की बैठक में शिक्षाकर्मी की मांगों पर कोई निर्णय लिया जा सकता है। इस सम्बंध में शिक्षाकर्मी नेता संजय शर्मा ने बताया कि पंचायत विभाग की तरफ से उन्हें औपचारिक रूप से बातचीत का बुलावा दिया गया है। कल दोपहर 12 बजे मंत्रालय में शिक्षाकर्मियों की मांगों को लेकर पंचायत विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव से बातचीत करेंगे। इस बात की पूरी संभावना है कि बैठक में कोई सकारात्मक निर्णय लिया जाएगा। बता दें कि बुधवार शाम  पंचायत विभाग के एसीएस एमके राउत रिटायर हो गये। उनकी जगह पर कर आरपी मंडल को नया सचिव बनाया गया है।

रैली फिलहाल स्थगित
बातचीत का प्रस्ताव आने के बाद शिक्षाकर्मियों की शुक्रवार को प्रस्तावित रैली स्थगित कर दी गई है। साथ ही परिवार सहित धरना देने की योजना को भी आगे टाल दिया गया है। पिछले कुछ दिनों से सरकार और हड़ताली शिक्षाकर्मियों के बीच टकराव बढ़ती ही जा रही थी। जहां एक तरफ सरकार शिक्षाकर्मियों पर बर्खास्तगी की कार्यवाही करने लगी थी। दूसरी तरफ शिक्षाकर्मी अपना आंदोलन तेज करने जा रहे थे। बताया गया है कि सरकार को इस बातचीत के लिए तैयार करने में भाजपा के ही दो बड़े नेताओं की प्रमुख भूमिका है। उन्होने मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह को बताया कि शिक्षाकर्मियों के बीच सरकार की छवि खराब हो रही है। इसलिए बातचीत की पहल करनी चाहिए। इसी के बाद नए दौर की वार्ता शुरु करने के निर्देश दिए गए। अब तक बातचीत का जिम्मा एमके राऊत के पास था। लेकिन अब उनके रिटायरमेंट के बाद आरपी मंडल को ये जिम्मेदारी सौंपी गई है।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi