All type of NewsFeaturedजिले की खबरेशिवपुरी

कांग्रेस 2018 के चुनाव में मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित नहीं करेगी : प्रदेशाध्यक्ष यादव

कांग्रेस 2018 के चुनाव में मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित नहीं करेगी : प्रदेशाध्यक्ष यादव

Congress will not declare chief minister in 2018 elections: UP chief Yadav Yadav

उनका आरोप मुंगावली में 18 हजार और कोलारस में 8 हजार बोगस मतदाता

khemraj mourya
शिवपुरी। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अरूण यादव ने आज पत्रकारवार्ता में संकेत दिए कि कांग्रेस 2018 के चुनाव में मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित किए बिना सामूहिक नेतृत्व के आधार पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सीएम केंडिडेट घोषित करने की परंपरा नहीं है। सत्ता में आने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देशानुसार नेता का चयन किया जाएगा। उन्होंने एक सवाल के जवाब में स्वीकार किया कि पार्टी में नेता चयन के मामले में विधायकों की राय से अधिक राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्णय की अहमियत होती है। श्री यादव ने कहा कि कोलारस और मुंगावली विधानसभा उपचुनाव जीतने के लिए भाजपा हर हथकंडे अपना रही है। मुंगावली में 18 हजार और कोलारस में 8 हजार बोगस मतदाता हैं जिसकी जानकारी कांग्रेस ने चुनाव आयोग को दे दी है और चुनाव आयोग ने ऐसे बोगस मतदाताओं के नाम सूची से विलोपित करने का उन्हें आश्वासन दिया है, लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई प्रगति नहीं हुई है।

Congress will not declare chief minister in 2018 elections: UP chief Yadav Yadavश्री यादव ने बताया कि मुंगावली और कोलारस में हजारों ऐसे मतदाता हैं जिनके सूची में दो-दो और तीन-तीन स्थानों पर नाम दर्ज हैं। इसकी पूरी तथ्यात्मक जानकारी कांग्रेस ने चुनाव आयोग को दे दी है। जब श्री यादव से पूछा गया कि मतदाता सूची जब बन रही थी और दावे और आपत्ति मांगे जा रहे थे तब कांग्रेस कहां थी? इस सवाल का सीधे जवाब न देते हुए उन्होंने कहा कि मतदाता सूची प्रकाशित होने के बाद उन्होंने चुनाव आयोग को अनियमितताओं से अवगत करा दिया था अब यह चुनाव आयोग और सरकार का काम है कि इन अनियमितताओं को ठीक किया जाए। जब श्री यादव से यह सवाल किया गया कि क्या कांग्रेस हार के डर से बोखलाकर इस तरह की अनियमितताएं की शिकायतें कर रही है? तो उनका जवाब था कि जीत और हार का सवाल नहीं है, सवाल अनियमितताएं और गड़बड़ी का है। पत्रकारों ने यह सवाल भी उठाया कि एक ओर पूरी बीजेपी चुनाव प्रचार में लगी है। भाजपा के मुख्यमंत्री, तमाम मंत्रीगण और संगठन से जुड़े पदाधिकारी प्रचार और प्रसार में लगे हुए हैं जबकि कांग्रेस उपचुनाव में विभक्त नजर आ रही है। अकेले सिंधिया जूझ रहे हैं। यहां तक कि कमलनाथ, सुरेश पचौरी, अजय सिंह आदि भी अभी तक चुनाव मैदान में नहीं पहुंचे हैं? इस सवाल से अचकचाए प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस में कोई गुटबाजी नहीं है और कल कमलनाथ आ रहे हैं तथा सभी वरिष्ठ और प्रमुख नेता कोलारस और मुंगावली आएंगे। नामांकन के दिन पूरी कांग्रेस कोलारस और मुंगावली में एकत्रित थी। क्या कांग्रेस मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित कर 2018 का चुनाव लड़ेगी अथवा नहीं। इस सवाल पर श्री यादव ने कांग्रेस की परंपरा को स्पष्ट किया तथा कहा कि पार्टी सामूहिक नेतृत्व के आधार पर चुनाव लड़ती है, लेकिन इसके बाद भी जैसा राहुल गांधी का निर्णय होगा वह समूची कांग्रेस का निर्णय होगा। पत्रकारवार्ता में कांग्रेस नेता राजेंद्र गुर्जर और जिला कांग्रेस प्रवक्ता हरवीर सिंह रघुवंशी, रामकुमार यादव भी मौजूद थे।

कांग्रेस ने मुख्यमंत्री और यशोधरा राजे की चुनाव आयोग से शिकायत की
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव ने बताया कि आचार संहिता उल्लंघन के मामले में कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश सरकार की मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया की शिकायत की है। श्री यादव ने कहा कि कल मैं कोलारस क्षेत्र के दौरे पर था तो मैंने देखा कि मुख्यमंत्री की सभा के लिए सड़क जाम कर दी गई थी और मेरी गाड़ी भी जाम में फंस गई थी। लगभग 6 माह से मुख्यमंत्री कोलारस और मुंगावली उपचुनाव जीतने के लिए हर तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। मतदाताओं को डराया और धमकाया जा रहा है। प्रदेश सरकार की मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने मंच से मतदाताओं को भाजपा के पक्ष में मतदान करने के लिए धमकाया जो सीधे-सीधे आचार संहिता उल्लंघन का मामला है। यशोधरा राजे ने सभा में कहा कि हमारी सरकार है और हमारा विधायक नहीं बनाओगे तो न पानी मिलेगा, न पिछड़ापन दूर होगा, मकान और चूल्हा भी नहीं मिलेगा। श्री यादव ने बताया कि शिकायत में यशोधरा राजे की सभा का वीडियो भी संलग्न किया गया है।

कई सरकारी कर्मचारी भाजपा के पक्ष में कर रहे हैं काम
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव ने पत्रकारवार्ता में कहा कि उपचुनाव में कई सरकारी कर्मचारी भाजपा कार्यकर्ता के रूप में काम कर रहे हैं। इसकी भी लिखित शिकायत उन्होंने चुनाव आयोग से की है।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi