उज्जैनजिले की खबरे

दो हजार पौधे रौप विवि ने दिया पर्यावरण संरक्षण संदेश –

कुलपति प्रो. पाण्डे ने भी किया पौधारोपण, फैलेगी हरियाली

brijesh parmar
उज्जैन। पर्यावरण  विकास में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है, पर्यावरण के प्रति जागरूकता के लिये हमें निरंतर कार्य करना चाहिये। विद्यार्थी अपने विद्यालय/महाविद्यालय एवं निवास के आसपास स्वच्छता, पौधरोपण और पौध संरक्षण के कार्यों से पर्यावरण विकास में जागरूकता कर सकते हैं। उक्त संदेश विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.एस.एस. पाण्डे द्वारा विश्वविद्यालय परिसर में आयेाजित पौधारोपण कार्यक्रम में राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों को व्यक्त किये।
विश्वविद्यालय परिसर में वन विभाग के सहयोग एवं देखरेख में सोमवार को दो हजार पौधे करंज, बिहाड़ा और हर्र के लगाये जा रहे हैं। इस उपलक्ष में आज पौधरोपण का कार्यक्रम अयोजित किया गया। इस अवसर पर पी.सी.दुबे मुख्य वन संरक्षक उज्जैन वृत्त भी परिवार सहित उपस्थित थे। श्री पी.सी.दुबे ने राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों को वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पर्यावरण एवं युवाओं की महती भूमिका पर सविस्तार प्रकाश डाला। आपने बताया कि विकास के साथ ही वन क्षेत्र कम हो रहा है, हानिकारक गैसों के दुष्प्रभाव से बचने के लियें नियोजित पौधरोपण और उनका संरक्षण आवश्यक है, वनविभाग तो यह कार्य करता ही है। किंतु समाज में पौधों के संरक्षण, पर्यावरण के विकास के प्रति जागरूकता आवश्यक है। युवाओं के माध्यम से जागरूकता निरंतर होना चाहये। इस अवसर पर रासेयो समन्वयक डॉ. प्रशान्त पुराणिक नें अतिथियों का स्वगत करते हुए बताया कि विश्विद्यालय परिक्षेत्र में एनएसएस के स्वयंसेवक निरंतर वन विभाग के सहयोग से प्रतिवर्ष पौधरोपण कार्य करते है। हामूखेडी, पंचक्रोशी मार्ग पर भी पौधरोपण रासेयो स्वयंसेवकों ने किया है। राष्ट्रीय सेवा योजना के 200 स्वयंसेवकों द्वारा अतिथियों के साथ पौधरोपण किया। इस अवसर पर संकायाध्यक्ष डॉ.राकेश ढाण्ड, रासेयो जिला संगठक डॉ.बी.एल. शर्मा वि.वि रासेयो इकाई के कार्यक्रम अधिकारी डॉ.राज बोरिया, डॉ.रमण सोलंकी,    शा.उत्कृष्ट उ.मा.वि. माधवनगर के कार्यक्रम अधिकारी राजेश गंधरा, अजय श्रीवास्तव, शा कन्या उ.मा.वि. धानमण्डी की कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती छोटीबाई जारवाल, वन विभाग के श्री यू.सी.पंवार सहित जीवाजीगंज उ.मा.वि., पॉलीटेक्नीक महाविद्यालय, उत्कृष्ट उ.मा.वि. माधवनगर, धानमण्डी के राष्ट्रीय सेवा योजना के विद्यार्थी उपस्थित थे।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi