All type of Newsइंदौर

गूगल मैप का उपयोग करने में देश के टॉप 10 शहरों में शुमार हुआ इंदौर

 इंदौर
दुनिया की टॉप इंटरनेट सर्च इंजन कंपनी 'गूगल' के फीचर 'गूगल मैप' का उपयोग करने के मामले में इंदौर देश के टॉप-10 शहरों में शुमार हो गया है। यह कहना है गूगल मैप इंडिया के प्रोग्राम मैनेजर अनल घोष का। वे गुरुवार को शहर में थे। गूगल मैप के नए फीचर्स की जानकारी देने शहर आए घोष ने नईदुनिया से खास बातचीत में कहा कि अनजाने शहर में रास्ता तलाशने के लिए अधिकांश लोग गूगल मैप का उपयोग करते हैं।

मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरू, जयपुर जैसे शहरों में तो इसका उपयोग किया ही जा रहा है, इंदौर में भी बड़ी संख्या में इसके यूजर हैं। इंदौर की ज्यादातर लोकेशन अब गूगल मैप पर मौजूद है। ओला और उबर जैसी टैक्सी और फूड सर्विस देने वाली कंपनियों के इंदौर में आने के बाद से गूगल मैप और बेहतर तरीके से लोकेशन बता पाने में सक्षम हुआ है।

लोकेशन का यूनिक कोड बनेगा

नए फीचर 'प्लस कोड' से अब हर व्यक्ति अपनी संपत्ति, घर, दुकान, ऑफिस की लोकेशन मैप पर फिट कर सकता है। इस फीचर से जिस स्थान का चुनाव किया गया है, उसका यूनिक डिजिटल कोड नंबर लिया जा सकता है। इसे कोई अन्य व्यक्ति बदल नहीं सकता। इससे बाहर के शहरों से आने वाले मेहमान, ट्रांसपोर्ट, डाक और डिलीवरी सर्विस वाले फिक्स लोकेशन पर पहुंच सकते हैं।

गलत लोकेशन बताने वाले ऐप पर कार्रवाई करे सरकार

जब नईदुनिया ने पूछा कि गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद कुछ ऐप गूगल मैप का उपयोग करके गलत लोकेशन उपलब्ध करा रहे हैं, तो घोष ने कहा कि एप डेवलपर को गूगल सिर्फ मैप की एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस (एपीआई) उपलब्ध कराता है। गलत लोकेशन बताने वाले ऐप पर गूगल रोक नहीं लगा सकता। यह सरकार की जिम्मेदारी है कि अगर इस तरह के एप से किसी तरह के अपराध की आशंका रहती है तो इन पर रोक लगाई जाए।

ajay dwivedi
the authorajay dwivedi